चेन्नई/दक्षिण भारतमुख्यमंत्री ईडाप्पाडी के पलानीस्वामी ने शुक्रवार को दिल्ली में रहने वाले तमिल विद्यार्थियों को शिक्षा देने के लिए ढांचागत सुविधाओं को बढावा देते हुए वीडियो कांन्फ्रेंसिंग के माध्यम से ५ करो़ड रुपए की लागत से निर्मित ‘पुरुची तलवी अम्मा’’ स्कूल के भवन का शुभारंभ किया। इस स्कूल का निर्माण दिल्ली तमिल संगम द्वारा किया गया है। यह स्कूल दिल्ली के मयूर विहार इलाके में ढाई एक़ड के भूखंड पर किया गया है।तमिल दिल्ली संगम पिछले ९० वर्षों से दिल्ली में रहने वाले १५ लाख तमिलभाषी परिवारों के बच्चों को बेहतर शिक्षा देने में मदद कर रहा है। संगम द्वारा दिल्ली में सात विभिन्न स्थानों पर स्कूलों का संचालन किया जाता है। संगम द्वारा संचालित स्कूलों में पहली कक्षा से लेकर आठवीं कक्षा तक तमिल की पढाई अनिवार्य रुप से कराई जाती है और नौवीं और दसवीं कक्षा में तमिल को वैकल्पिक विषय के रुप में पढाया जाता है।राज्य सरकार द्वारा हर वर्ष दिल्ली तमिल संगम द्वारा संचालित स्कूलों में पढने वाले विद्यार्थियों के लिए तमिलनाडु पाठ्यपुस्तक सोसायटी के माध्यम से नि:शुल्क पाठ्यपुस्तकों की आपूर्ति की जाती है। दिल्ली में रहने वाले तमिलभाषी लोगों की संख्या काफी बढ रही है और इसे देखते हुए संगम ने राज्य सरकार से स्कूल के एक भवन के निर्माण के लिए राशि आवंटित करने का अनुरोध किया था और कहा था कि राज्य सरकार की आर्थिक मदद से तैयार होने स्कूल के ब्लॉक का नाम पूर्व मुख्यमंत्री जयललिता के नाम पर रखा जाएगा।संगम की ओर से रखे गए इस प्रस्ताव को मुख्यमंत्री ईके पलानीस्वामी ने स्वीकार कर लिया था और ६५१५ वर्ग फिट के क्षेत्रफल पर बनने वाले स्कूल ब्लॉक के निर्माण के लिए ५ करो़ड रुपए की राशि आवंटित किया। शुक्रवार को वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से इस भवन का शुभारंभ करने के मौके पर राज्य सचिवालय में मुख्यमंत्री ईके पलानीस्वामी के साथ लोकसभा के उपाध्यक्ष थंबीदुरै, शिक्षा मंत्री केए सेंगोट्टैयन, तमिल भाषा और संस्कृति मंत्री के पांडियाराजन, दिल्ली में तमिलनाडु सरकार की विशेष प्रतिनिधि तलवी सुंदरम, तमिलनाडु पाठ्यपुस्तक सोसाइटी के अध्यक्ष पी वलरमती, मुख्य सचिव गिरिजा वैद्यनाथन,शिक्षा विभाग के प्रधान सचिव प्रदीप यादव, शिक्षा विभाग के निदेशक वीसी रामेश्वरम मुरुगन, दिल्ली तमिल संगम के अध्यक्ष सूर्यनारायणन और अन्य उच्च अधिकारी उपस्थित थे।

LEAVE A REPLY