कानपुर/लखनऊ। कानपुर पुलिस ने ९६ करो़ड रुपए से अधिक के नोटों को शहर के एक ब़डे भवन निर्माता के स्वरूप नगर स्थित घर से बरामद किया है। इस मामले में पुलिस ने इस भवन निर्माता समेत १६ लोगों को गिरफ्तार किया है। लखनऊ में प्रमुख सचिव गृह अरविंद कुमार ने बुधवार को पत्रकारों से कहा, कानपुर में अभी भी विभिन्न ठिकानों पर छापेमारी जारी है। अभी तक करीब ९७ करो़ड रुपए की पुराने नोट बरामद हो चुकी है। नोटों की बरामदगी में आतंकी समूह से संबंध होने के बारे में उन्होंने कहा कि प्रथम दृष्टया इस मामले में किसी आतंकी संपर्क का कोई पता नहीं लगा है। वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक अखिलेश कुमार मीणा ने बताया कि बरामद पुराने नोटों में से ९५ करो़ड रुपए भवन निर्माता आनंद खत्री के थे जबकि एक करो़ड रुपए से अधिक के पुराने नोट एक दर्जन से अधिक अन्य लोगों के थे। नवंबर २०१६ में नोटबंदी के बाद पांच सौ और एक हजार के पुराने नोट बंद होने के यह सबसे ब़डी पुराने नोट की बरामदगी हुई है। मीणा ने बताया कि राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) को पुराने नोटों के इस कारोबार के बारे में कुछ कंपनियों और लोगों से जानकारी मिली थी जिसे उसने कानपुर के पुलिस महानिरीक्षक (आईजी) आलोक सिंह के साथ साझा किया था। उन्होंने बताया कि पुलिस ने चार लोगों को स्वरूप नगर इलाके से गिरफ्तार किया जो पुराने नोट को नए नोटों में बदलने के अवैध कारोबार में लगे थे। पहले इन पक़डे गए लोगों ने सख्ती से पूछताछ करने पर इस गिरोह के बारे में जानकारी दी। पूछताछ में पता चला कि शहर का एक ब़डा भवन निर्माता इस पुराने नोट को नए नोटों में बदलने के काले कारोबार में लगा है। इसके बाद पुलिस की टीम ने स्वरूप नगर के गोल चौराहा स्थित इस भवन निर्माता के घर पर छापा मारा तो वहां से पुराने नोटों का एक ब़डा जखीरा बरामद किया।

Facebook Comments

LEAVE A REPLY