बेंगलूरु/दक्षिण भारतअखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी (एआईसीसी) ने रविवार को दावा किया कि कर्नाटक के अपने व्यापक दौरों से उन्हें पूरा विश्वास हो गया है कि राज्य में मतदाताओं का रुख पूरी तरह स्पष्ट है। आगामी १२ मई को विधानसभा चुनव के नतीजे घोषित होने के बाद कांग्रेस ही राज्य की सत्ता पर फिर से काबिज होगी। उसे चुनाव में भारी बहुमत से जीत मिलनेवाली है। कांग्रेस की इस जीत में भारत की सिलिकॉन वैली के नाम से पहचान बना चुके बेंगलूरु के मतदाता अहम भूमिका निभाएंगे। राज्य में सत्तासीन कांग्रेस द्वारा आयोजित पांच चरणों की ’’जन आशीर्वाद यात्रा’’ के समापन समारोह को संबोधित करते हुए राहुल गांधी ने कहा कि भाजपा कर्नाटक की सत्ता में कभी वापसी नहीं कर सकेगी। इसकी वजह यह है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अगुवाई वाली केंद्र सरकार देश को प्रभावित करने में पूरी तरह से असफल रही है। कर्नाटक के लोग समझ चुके हैं कि वर्ष २०१४ के लोकसभा चुनाव में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा देश की जनता से किए गए वादे निभाने की नीयत सरकार में नहीं है। वर्ष २०१९ के लोकसभा चुनाव में भी कांग्रेस ही पूर्ण बहुमत के साथ केंद्र की सरकार गठित करेगी। इसके लिए विपक्ष की ऐसी पार्टियों की मदद हासिल की जाएगी, जिनकी विचारधारा कांग्रेस से मिलती-जुलती है। राहुल गांधी ने कहा कि उनकी पार्टी बेंगलूरु की विविधतापूर्ण संस्कृति की समर्थक है। यह शहर अपने-आप में एक छोटा सा हिंदुस्तान है। भाजपा ने शहर और पूरे कर्नाटक की जनता को आपस में बांटने की कोशिश की है। उन्होंने कहा, ’’बेंगलूरु पूरी दुनिया में २१वीं सदी के शहर के तौर पर पहचाना जाता है। कांग्रेस यहां की संस्कृति का संरक्षण कर सकती है। यह शहर पूरी दुनिया की श्रेष्ठ प्रतिभाओं को अपनी ओर आकर्षित करता है। देश के सकल घरेलू उत्पाद में इस शहर का बेहद महत्वपूर्ण योगदान रहा है। इस शहर से ऐसे विचार जन्म लेते हैं, जो भारत की ओर से पूरी दुनिया को एक सच्चे महानगर का तोहफा दे सकते हैं्। वहीं, भाजपा लोगों को धर्म और अन्य संकीर्ण हितों के आधार पर आपस में बांटने के प्रयास में बेंगलूरु की इस खासियत को खत्म करना चाहती है। इसे आगामी चुनाव में पूरी तरह से परास्त किया जाना चाहिए्।’’उन्होंने राज्य में मुख्यमंत्री सिद्दरामैया की अगुवाई वाली कांग्रेस सरकार की तारीफ करते हुए कहा कि इस सरकार ने शहरवासियों के विचारों का हमेशा सम्मान किया। इससे पूर्व एआईसीसी अध्यक्ष ने संकेत दिया कि वर्ष २०१९ के लोकसभा चुनाव में कांग्रेस की वजह से भाजपा का पतन सुनिश्चित होगा। भाजपा के खिलाफ समूचे विपक्ष को कांग्रेस के नेतृत्व में एकजुट कर चुनाव ल़डा जाएगा।उन्होंने कहा, ’’पूरी दुनिया बेंगलूरु की तरक्की पर आंखें टिकाई हुई है। कांग्रेस सरकार के कार्यकाल में इस शहर में भारी मात्रा में विदेशी निवेश आकर्षित करने में सफलता मिली है। कांग्रेस बेंगलूरु को एकता के सूत्र में पिरोना चाहती है, जबकि भाजपा धर्म के आधार पर सामाजिक विघटन के जरिए यहां राज करने की कोशिश कर रही है।’’ उन्होंने केंद्र की भाजपा सरकार को जनविरोधी ठहराते हुए कहा कि इसकी नीतियां पूरी तरह से एकतरफा हैं्। विभिन्न राज्यों और शहरों को केंद्र की ओर से समय-समय पर राहत राशि जारी करने में भी इस पार्टी की सोच राजनीति से प्रेरित होती है।

Facebook Comments

LEAVE A REPLY