wing loong 2 drone
wing loong 2 drone

बीजिंग। भारत और रूस के बीच एस-400 सौदे के बाद अब पाकिस्तान अपने पुराने दोस्त चीन की शरण में पहुंचा है। उसने चीन के साथ एक सैन्य सौदा किया है। इसके तहत चीन पाकिस्तान को 48 हाई क्वालिटी ड्रोन देगा। जानकारी के अनुसार, इसे पाकिस्तान में महत्वपूर्ण सैन्य सौदे में से एक माना जा रहा है। जैसा कि जाहिर है, पाकिस्तान इस तरह के सौदे भारत से नफरत और आतंकवाद को प्रोत्साहन देने के लिए करता है।

भारत ने रूस के साथ जब एस-400 सौदा किया तो उसके बाद पाकिस्तान के मीडिया में विरोध और चिंता के स्वर उठने लगे। पाकिस्तान के कई रक्षा विशेषज्ञों ने इस पर​ चिंता जताई और अमेरिका से मांग की कि वह भारत पर प्रतिबंध लगाए। यही नहीं, उन्होंने एस-400 सौदे को दक्षिण एशिया में शांति के लिए अनुचित माना।

जब पाकिस्तान की फरियाद किसी ने नहीं सुनी तो वह चीन के पास पहुंचा और अपने लिए ड्रोन का सौदा पक्का कर लिया। चीन के अधिकारियों ने इस बात की पुष्टि की है। दोनों देशों में से किसी ने भी सौदे की कुल रकम को गुप्त ही रखा है। चीन सरकार के मुखपत्र ‘ग्लोबल टाइम्स’ ने इस सौदे पर एक रिपोर्ट प्र​काशित की है।

अखबार की इस रिपोर्ट में कहा गया है कि चीन पाकिस्तान का सबसे बड़ा सहयोगी है। पाकिस्तानी वायुसेना की एयरोबेटिक टीम ने इसका ऐलान किया है। हालांकि यह नहीं बताया गया कि पाकिस्तान को ये ड्रोन कब तक मिलेंगे। इस ड्रोन का नाम विंग लूंग 2 बताया जा रहा है। माना जा रहा था कि भारत-रूस द्वारा एस-400 सौदे के बाद चीन पाकिस्तान की मदद के लिए आगे आएगा।

ये भी पढ़िए:
– भाजपा शासित इन तीन राज्यों में ऐसी थी 2013 के चुनावों की तस्वीर, क्या फिर दोहराएगी इतिहास?
– घर में रखे 78 हजार रुपए बच्चे के हाथ लगे तो कर दिए छोटे-छोटे टुकड़े, कारनामा वायरल
– नीरव मोदी ने कनाडा के युवक को लाखों डॉलर लेकर थमाया नकली हीरा, टूट गई सगाई
– मिसाइल यूनिट में काम कर रहा शख्स गिरफ्तार, पाक की आईएसआई को सूचना देने का आरोप

LEAVE A REPLY