modi and putin
modi and putin

नई दिल्ली। रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन गुरुवार को भारत आएंगे। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ उनकी मुलाकात होगी। चर्चा है कि इस दौरान दोनों देशों के बीच बहुचर्चित एस-400 ट्रायम्फ एयर डिफेंस सिस्टम के सौदे पर बात पक्की हो सकती है। इसलिए पुतिन का भारत दौरा काफी अहम होने वाला है। इस पर पाकिस्तान के साथ ही अमेरिका और चीन की भी नजर है, क्योंकि यदि एस-400 डिफेंस सिस्टम भारत को मिलता है,तो इससे हमारी सेनाएं और मजबूत होंगी।

वहीं अमेरिका पूर्व में इस सौदे पर नाराजगी जता चुका है। उसका कहना है कि भारत रूस से एस-400 खरीदने के बजाय उसका थाड (टर्मिनल हाई ऑल्टिट्यूड एरिया डिफेंस सिस्टम) खरीदे। हालांकि थाड का सौदा अभी तक नहीं हुआ है। दरअसल एस-400 और थाड में कई समानताओं के साथ कुछ अंतर भी हैं, जिनके आधार पर माना जा रहा है कि एस-400 बेहतर है।

ये दोनों एयर डिफेंस मिसाइल प्रणाली हैं। इनके जरिए दुश्मन की मिसाइल को हवा में ही मार गिराया जा सकता है। एस-400 की मारक क्षमता थाड से ज्यादा बताई जा रही है। विभिन्न रिपोर्टों के अनुसार, यदि एस-400 सिस्टम के सामने कोई मिसाइल 4,800 मीटर प्रति सेकंड की रफ्तार से आए तो यह उसे खत्म कर सकता है। थाड की क्षमता इससे काफी कम है। यह सिर्फ 3,000 मीटर प्रति सेकंड की रफ्तार से आ रही मिसाइल को ही भेद सकता है।

एस-400 सिस्टम की एक और खूबी है। यह एकसाथ 100 खतरों का आकलन करने में सक्षम है। यही नहीं, एस-400 सिस्टम अमेरिका के छह एफ-35 लड़ाकू विमानों को एकसाथ तबाह करने की ताकत रखता है। एस-400 का निशाना अचूक है। यह एकसाथ तीन दिशाओं की ओर मिसाइल से हमला करने में सक्षम है। इन तमाम खूबियों के कारण भारत इसमें रुचि दिखा रहा है। रूस के साथ भारत के काफी मधुर रिश्ते रहे हैं।

ये भी पढ़िए:
– सीरिया में आतंकियों के अड्डे पर रूस का हमला, मारा गया बगदादी का बेटा
– कांग्रेस को मायावती का जोरदार झटका, राजस्थान और मप्र में गठबंधन नहीं करेगी बसपा
– शर्मनाक! व्रत के दौरान गंगा स्नान करने आई महिला से सामूहिक दुष्कर्म, बनाया वीडियो
– क्या आपने देखा है एक ही तरफ दो मुंह वाला यह दुर्लभ सांप, यहां देखिए वीडियो

LEAVE A REPLY