नई दिल्ली/भाषाबैंकों से कर्ज लेकर विदेश भागने जैसे अपराधों पर क़डा अंकुश लगाने के प्रयासों के तहत केंद्रीय मंत्रिमंडल ने भगो़डे आर्थिक अपराधी अध्यादेश २०१८ को आज मंजूरी दे दी। इसमें आर्थिक अपराध कर देश से भागे व्यक्तियों की संपत्ति उन पर मुकदमे का निर्णय आए बिना जब्त करने और उसे बेच कर कर्जदेने वालों का पैसा वापस करने का प्रावधान है। सूत्रों ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में केंद्रीय मंत्रिमंडल की बैठक में इसे मंजूरी दी गई। राष्ट्रपति की मंजूरी के बाद यह लागू हो जाएगा।भगो़डे आर्थिक अपराधी विधेयक को १२ मार्च को लोकसभा में पेश किया गया था लेकिन संसद में विभिन्न मुद्दों को लेकर गतिरोध के चलते इसे पारित नहीं किया जा सका। इसके तहत नीरव मोदी जैसे उन लोगों की संपत्तियां जब्त करने का प्रावधान है जो आपराधिक कार्रवाई बचने के लिए देश से भाग गए हैं। इस अध्यादेश के प्रावधान ऐसे आर्थिक अपराधियों पर लागू होंगे जो देश वापस आने से इनकार कर देते हैं, जिन लोगों के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी हो चुके हैं और जिनपर १०० करो़ड रुपए से अधिक का बकाया है और उन्हें जानबूझ कर कर्ज न चुकाने वाला घोषित किया जा चुका है। इस तरह के आरोपियों के खिलाफ धन शोधन निरोधक कानून (पीएमएलए) के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। इसके तहत अभियोजन से बचने के लिए विदेश भाग जाने वाले या मामले का सामना करने के लिए वापस लौटने से इनकार करने वाले को भगो़डा अपराधी माना जाएगा। इस अध्यादेश के तहत ऐसे भगो़डे अपराधी भी आएंगे जिनपर जाली सरकारी स्टाम्प और मुद्रा छापने, धन की कमी से चेक वापस होने , मनी लांडरिंग (अपराध की कमाई को वैध धन दिखाने का प्रसास) और कर्जदराता के साथ धोखाध़डी करने के सौदें में लिप्त होनेक के आरोप में गिरफ्तारी वारंट जारी हैं।पीएमएलए २००२ के तहत नियुक्त निदेशक या उपनिदेशक किसी व्यक्ति विशेष को भगो़डा घोषित करने के लिए विशेष अदालत में आवेदन कर सकता है। उसे संबंधित व्यक्ति के ठिकाने , उसकी जब्त की जाने वाली सम्पत्तियों , जब्त की जाने वाली बेनामी और विदेशी सम्पत्तियों की सूची और ऐसे व्यक्तियों की सूची देनी होगी जिनका इन सम्पत्तियों से हित जु़डा है।

LEAVE A REPLY