ramnik muni ji pravachan
ramnik muni ji pravachan

बेंगलूरु/दक्षिण भारत। वर्द्धमान स्थानकवासी जैन श्रावक संघ चिकपेट शाखा के तत्वावधान में यहां गोड़वाड़ भवन में उपाध्यायश्री रवींद्रमुनिजी ने शुक्रवार को मंगलाचरण से धर्मसभा की शुरुआत की। इस अवसर पर सलाहकार श्री रमणीकमुनिजी ने ‘जिंदगी की असली चुनौतियां क्या हैं?’ विषयक प्रवचन शृंखला के दूसरे दिन कहा कि व्यक्ति के जीवन में धर्म की शुरुआत यानी धर्म का शुभारंभ ‘बुराई को भूलना’ सीखने से होगी।

उन्होंने कहा, धर्म के निकट आना है या जाना है तो हर प्रकार के बुरेपन को भुलाएं यानी बुराइयां त्यागें, तभी हम धर्मात्मा बन सकते हैं। भगवान महावीर ने बोधि के अनेक सूत्र दिए हैं। यह उन्हीं के लिए लागू होता है जो उनकी कक्षा को ज्वाइन करना चाहता है। भगवान महावीर का विद्यार्थी बनना बहुत बड़ा सौभाग्य है।

उन्होंने कहा कि जैन होने का मतलब भगवान महावीर का विद्यार्थी बनना है। जिंदगी की जितनी भी विपरीत परिस्थितियां व्यक्ति की परीक्षा की घड़ियां ही होती हैं। सुख अमीर-गरीब शिक्षित-अशिक्षित यानी सभी को चाहिए। साथ ही सुख हमेशा 12 माह 24 घंटे चाहिए, सुखी को सभी पसंद भी करते हैं।

उन्होंने कहा कि अनेक प्रकार की सावधानियां रखने के बावजूद व्यक्ति बीमार क्यों पड़ता है, यह सब कर्म सत्ता का खेल है। नसीब, कर्म सत्ता जब आप के पक्ष में रहेंगे, तो दुनिया के धनी व्यक्ति आप ही होंगे। कर्म को न्यायाधीश, व्यक्ति को कैदी तथा जेलर को सुख और दुख देने वाला बताते हुए मुनिश्री ने कहा कि व्यक्ति के लिए यह कोई भी यानी उसका परिजन या मित्र हो सकता है यानी आपकी जिंदगी से कोई भी जुड़ा है वह नसीब की वजह से सुख अथवा दुख दे सकता है। व्यक्ति को बुरा करने की इजाजत कोई और या किसी से नहीं वह स्वयं से ही मिलती है।

उन्होंने कहा, माता—पिता बच्चों के जन्म के साथ ही होते हैं, कर्म के नहीं। जीवन के सुख-दुख का हिसाब उन्हें पूरा करना पड़ेगा। मय उदाहरण के रमणीकमुनिजी ने कहा, हर व्यक्ति को कर्म तो भोगने ही पड़ेंगे। वहीं किसी ने बुरा किया और आपने भी यदि बुरा करके किया तो कर्म बंध और बनेंगे। उन्होंने यह भी कहा कि सच्चा प्रतिक्रमण, सच्ची सामायिक तभी होगी जब प्रभु महावीर के नियमों को हम अपनाएंगे।

इस अवसर पर श्री अर्हममुनिजी ने गीतिका सुनाई। धर्मसभा में उपप्रवर्तक श्रीपारसमुनिजी ने मांगलिक प्रदान की। चिकपेट शाखा के महामंत्री गौतमचंद धारीवाल ने संचालन किया। धारीवाल ने बताया कि शुक्रवार को चौमुखी जाप के लाभार्थी गौतमचंद राजकुमार मांडोत का रविंद्रमुनिजी ने जैन दुपट्टा ओढ़ाकर सम्मान किया। उन्होंने बताया कि धर्म सभा मे आध्यात्मिक चातुर्मास के मुख्य संयोजक रणजीतमल कानूंगा, नवरतनमल मांडोत, अभयराज मांडोत सहित विभिन्न उपनगरीय संघों से बड़ी संख्या में श्रद्धालु मौजूद थे।

ये भी पढ़िए:
पढ़िए जैन मुनि तरुण सागरजी के 5 कड़वे प्रवचन जो दिखाते हैं जीवन की नई राह
जैन मुनि तरुण सागरजी का 51 साल की उम्र में निधन, ‘कड़वे प्रवचन’ हुए थे विख्यात

LEAVE A REPLY