मुंबई। यहां की एक विशेष अदालत ने १२,६३६ करो़ड रुपए के कथित पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) धोखाध़डी मामले में गिरफ्तार चार लोगों को सोमवार को १७ मार्च तक के लिए सीबीआई हिरासत में भेज दिया। केन्द्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ने अरबपति हीरा व्यापारी नीरव मोदी और मेहुल चोकसी द्वारा की गई कथित धोखाध़डी के सिलसिले में रविवार को इन लोगों को गिरफ्तार किया था। इन आरोपियों को सीबीआई के विशेष न्यायाधीश एसआर तम्बोली के समक्ष पेश किया गया था। नीरव मोदी की फायरस्टार इंटरनेशनल लिमिटेड के तत्कालीन एजीएम (संचालन) मनीष के बोसमिया, कंपनी के तत्कालीन वित्त प्रबंधक मितेन अनिल पांड्या को पीएनबी को सौंपे गए फर्जी लेटर्स ऑफ अंडरटेकिंग (एलओयू) के लिए आवेदन तैयार करने में उनकी संदिग्ध भूमिका के लिए गिरफ्तार किया गया। सीए फर्म संपत एंड मेहता में साझेदार ऑडिटर संजय राम्भिया और मेहुल चोकसी की कंपनी के तत्कालीन निदेशक अनियाथ शिव रमन नायर को इस मामले में रविवार को गिरफ्तार किया गया था। यह आरोप लगाया गया है कि गीतांजलि समूह की कंपनियों के निदेशकों में से एक नायर पीएनबी को एलओयू और फॉरन लेटर्स ऑफ क्रेडिट (एफएलसी) के वास्ते भेजे गए आवेदनों के लिए अधिकृत हस्ताक्षरकर्ता भी थे।

LEAVE A REPLY