पायलट विकास ज्याणी और हवाई जहाज में बैठे गांव के बुजुर्ग।
पायलट विकास ज्याणी और हवाई जहाज में बैठे गांव के बुजुर्ग।

हिसार। बचपन सुनहरी यादों और बड़े सपनों से भरा होता है। हरियाणा के हिसार जिले के सारंगपुर गांव के विकास ज्याणी का बचपन से ही सपना था कि वे बड़े होकर पायलट बनेंगे। इसके लिए उन्होंने खूब मेहनत की और अब उनका सपना सच हो गया। इसी के साथ उन्होंने वह वादा भी निभाया जो गांव के बुजुर्गों से किया था।

विकास जब पढ़ाई कर रहे थे तब उन्होंने अपने गांव के बुजुर्गों से कहा था कि अगर वे पायलट बन जाएंगे तो उन्हें मुफ्त हवाई सफर कराएंगे। पायलट बनते ही उन्होंने गांव के 22 बुजुर्गों को दिल्ली से अमृतसर का हवाई सफर कराया।

इन बुजुर्गों में गांव की हर जाति के लोग थे। 70 साल से ज्यादा के इन बुजुर्गों में पुरुषों के अलावा महिलाएं भी थीं। इन्होंने हवाई जहाज को गांव के आसमान से गुजरते तो कई बार देखा था लेकिन इस बात की कभी कल्पना नहीं की थी कि वे एक दिन सच में हवाई सफर कर पाएंगे। विकास ने इन बुजुर्गों को अपने खर्चे पर पूरा हवाई सफर कराया।

विकास 22 बुजुर्गों को इंडिगो एयरलाइंस के विमान से दिल्ली से अमृतसर लेकर गए। वहां उन्हें स्वर्ण मं​दिर के दर्शन कराए। साथ ही जलियांवाला बाग, वाघा बॉर्डर की परेड सलामी और दूसरे दर्शनीय स्थल दिखाए। इस सफर के बाद सभी बुजुर्ग खुश हैं। साथ ही विकास को भी बेहद खुशी है कि वे अपना वादा निभाने में सक्षम हो पाए। बुजुर्गों में 90 साल की जीता देवी भी शामिल हैं। वे कहती हैं कि अब अगर मर भी जाएं तो कोई गम नहीं, क्योंकि कोई अरमान बाकी नहीं रहा।

विकास के पिता महेंद्र ज्याणी कहते हैं कि इन बुजुर्गों को हवाई सफर कराना किसी तीर्थ कराने से कम नहीं है। महेंद्र ज्याणी बैंक में मैनेजर हैं। उन्होंने बताया कि विकास ने कैलिफोर्निया से पायलट का कोर्स किया था। वे 2016 में पायलट बन गए। अब 2 अक्टूबर को बुजुर्गों को हवाई सफर पर लेकर गए। विकास के इस काम की काफी चर्चा हो रही है। सोशल मीडिया इन बुजुर्गों के साथ उनकी तस्वीरें छाई हुई हैं। साथ ही गांव के हर घर में विकास की प्रशंसा हो रही है, बुजुर्ग उन्हें आशीर्वाद दे रहे हैं।

ये भी पढ़िए:
– खूबसूरत लड़कियों के नाम से फेसबुक आईडी बनाकर पाक की आईएसआई ऐसे करवा रही जासूसी
– प. बंगाल में कमल खिलाने के लिए भाजपा लगा रही जोर, 3 रथ यात्राओं की तैयारी
– गरीबी में दिन काट रहे मजदूर की खुली किस्मत, खदान से मिला बेशकीमती हीरा
– कौन थे सर छोटूराम जिनकी प्रतिमा का प्रधानमंत्री मोदी ने किया अनावरण?

LEAVE A REPLY