general bipin rawat
general bipin rawat

नई दिल्ली। कश्मीर में पत्थरबाजी की घटना में गंभीर रूप से घायल होने के बाद शहीद होने वाले जवान राजेंद्र सिंह पर अब सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत का बयान आया है। उन्होंने कहा है कि पत्थरबाजों के हमले में जवान शहीद हुआ जो बॉर्डर पर निर्माणाधीन सड़क की सुरक्षा में लगा था। तब भी कुछ लोग कहते हैं कि पत्थर फेंकने वालों को आतंकियों का सहयोगी न समझा जाए। जनरल रावत ने शनिवार को इंडिया गेट स्थित अमर जवान ज्योति पर आयोजित पैदल सेना दिवस के कार्यक्रम में भाग लिया और शहीदों को श्रद्धांजलि दी।

इस मौके पर उन्होंने पाकिस्तान को चेतावनी दी कि घुसपैठ और आतंकवाद की हरकतों से बाज़ आए वरना भारतीय सेना के पास कार्रवाई का विकल्प है। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान के मंसूबों को कामयाब नहीं होने दिया जाएगा और कश्मीर भारत का है।

उल्लेखनीय है कि गुरुवार को जवान राजेंद्र सिंह पर उस वक्त पत्थरों की बौछार की गई जब वे सीमा सड़क संगठन के काफिले की सुरक्षा में तैनात थे। यह काफिला एनएच-44 के नजदीक अनंतनाग बाईपास तिराहे से गुजरा तो वहां खड़े पत्थरबाजों ने वाहनों पर हमला कर दिया। एक पत्थर राजेंद्र सिंह के सिर में आकर लगा जिससे उन्हें गंभीर चोट आई।

शहीद राजेंद्र सिंह
शहीद राजेंद्र सिंह

राजेंद्र सिंह को श्रीनगर के 92 बेस अस्पताल में भर्ती किया गया लेकिन वे बचाए नहीं जा सके। शहीद राजेंद्र सिंह उत्तराखंड के बडेना गांव से थे। वे 2016 में भारतीय सेना में भर्ती हुए थे। उनकी शहादत की खबर फैलने के बाद देशभर में यह बहस शुरू हो गई है कि सुरक्षाबलों पर पत्थर फेंकने वालों को आतंकियों के बराबर गुनहगार क्यों न माना जाए। अब जनरल रावत ने भी बयान देकर इस समस्या की गंभीरता की ओर संकेत किया है।

सेना प्रमुख रावत ने पाकिस्तान को चेतावनी देते हुए कहा कि वह जानता है कि अपने मंसूबों में कभी कामयाब नहीं होगा। जनरल रावत ने कहा कि मुद्दे को गरम रखने के लिए आतंकवाद उसका दूसरा रास्ता है। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान आतंकवाद के जरिए कश्मीर में विकास रोकना चाहता है। उन्होंने पाक को दो टूक कहा कि भारतीय राज्य इन सबका जवाब देने में पूरी तरह मजबूत है। हम विभिन्न प्रकार के ऑपरेशन चलाने में पूरी तरह सक्षम हैं।

जनरल रावत के इस बयान के बाद माना जा रहा है कि कश्मीर घाटी और नियंत्रण रेखा पर सुरक्षाबल और ज्यादा आक्रामकता के साथ आतंकवाद का मुकाबला करेंगे। इसके अलावा पत्थरबाजों पर भी सख्ती बरती जा सकती है।

ये भी पढ़िए:
– हो गया ऐलान, बिहार में जदयू और भाजपा बराबर सीटों पर लड़ेंगी लोकसभा चुनाव
– जिग्नेश मेवानी ने पार की बेशर्मी की हद, प्रधानमंत्री को कहा ‘नमक हराम’
– चाकू लेकर स्कूल में घुसी महिला ने किया हमला, 14 बच्चे घायल
– सूरत के हीरा व्यापारी ने फिर दिखाई ​दरियादिली, 600 कर्मचारियों को तोहफे में देंगे कार

LEAVE A REPLY