बेंगलूरु/ दक्षिण भारतभारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह द्वारा कर्नाटक के पूर्व मंत्री और अवैध लौह अयस्क खनन कारोबार में लिप्तता के आरोप में दो वर्ष कैद में रह चुके जी. जनार्दन रेड्डी से पार्टी का कोई संबंध नहीं होने की बात कहे जाने के बावजूद जनार्दन रेड्डी आगामी १२ मई को होने जा रहे विधानसभा चुनाव के लिए भाजपा प्रत्याशियों के पक्ष में चुनाव प्रचार करते दिख रहे हैं्। शनिवार को जिले की मोलकलमुरु सीट से भाजपा के प्रत्याशी बी. श्रीरामुलु द्वारा नामांकन पत्र दाखिल किए जाते समय जनार्दन रेड्डी उनके साथ मौजूद थे। इस मौके पर श्रीरामुलु के साथ एक रैली में भाजपा प्रदेश अध्यक्ष और पार्टी के मुख्यमंत्री उम्मीदवार बीएस येड्डीयुरप्पा और केंदीय मंत्री अनंतकुमार भी मौजूद थे। गौरतल है कि अमित शाह ने कर्नाटक में कई दौरों के चुनाव प्रचार अभियान के दौरान कहा था था कि भाजपा ने जनार्दन रेड्डी से अपने संबंध समाप्त कर लिए हैं और अब पार्टी का उनके साथ कोई लेना-देना नहीं है। येड्डीयुरप्पा और जनार्दन रेड्डी को वर्ष २००८ के विधानसभा चुनाव मे भाजपा की जीत और राज्य की सत्ता में इस पार्टी के आने की इबारत लिखने वाले मुख्य किरदारों के रूप में माना जाता है। रेड्डी राज्य के प्रभावशाली मंत्री भी बने लेकिन लौह अयस्क के अवैध खनन में लोकायुक्त की रिपोर्ट में जनार्दन रेड्डी का नाम आने के बाद उनकी छवि को गहरा झटका लगा था। लोकायुक्त की रिपोर्ट में उन्हें मुख्य अभियुक्त माना गया था। बहरहाल, विस्तृत जांच के बाद केंद्रीय जांच ब्यूरो ने रेड्डी के खिलाफ कोई स्पष्ट सबूत न होने के कारण सारे मामले बंद कर दिए थे। वहीं, रेड्डी ने सुप्रीम कोर्ट की सशर्त जमानत में दिए गए इस आदेश का भी पालन नहीं किया है कि वह जमानत अवधि में बल्लारी जिले में प्रवेश न करें्। उन्होंने कोर्ट के आदेश को धत्ता बताने और श्रीरामुलु के पक्ष में चुनाव प्रचार करने के लिए बल्लारी की सीमा पर अपना मौजूदा आवास बना रखा है। वह अपने भाई सोमशेखर रेड्डी के पक्ष में भी बल्लारी में चुनाव प्रचार करने की मंशा जता चुके हैं्। सोमशेखर रेड्डी को सुप्रीम कोर्ट के एक जज को जनार्दन रेड्डी की जमानत के लिए रिश्वत देने की कोशिश करने के आरोप में गिरफ्तार किया गया था। वहीं, जनार्दन रेड्डी के भाई करुणाकर रेड्डी को भी भाजपा ने हारपनहल्ली से अपना प्रत्याशी बनाया है।

Facebook Comments

LEAVE A REPLY