मैसूरु/दक्षिण भारतपूर्व मुख्यमंत्री और जनता दल (एस) के प्रदेश अध्यक्ष एचडी कुमारस्वामी ने बुधवार को दावा किया कि मुख्यमंत्री सिद्दरामैया और उनके पुत्र डॉ. यतींद्र १२ मई को होने वाले राज्य विधानसभा चुनाव में भारी हार का सामना करने को मजबूर होंगे। उन्होंने आरोप लगाया कि सिद्दरामैया इस इलाके के मतदाताओं का समर्थन हासिल करने के लिए उनमें आपसी फूट डालने की नीति पर चल रहे हैं्। आज यहां पत्रकारों से बातचीत में कुमारस्वामी ने कहा, ’’कई कांग्रेस नेताओं ने मेरी पार्टी की सदस्यता हासिल कर ली है। वहीं, सिद्दरामैया कुछ वोक्कालिगा नेताओं को उकसा रहे हैं कि वह जनता दल (एस) के खिलाफ बयानबाजी करें। यह सिद्दरामैया की फूट डालो और शासन करो की नीति का हिस्सा है।’’कुमारस्वामी ने कहा, ’’सिद्दरामैया ने पूर्व में चामुंडेश्वरी विधानसभा सीट छो़डकर वरुणा सीट से चुनाव ल़डना बेहतर समझा था। अब वह दोबारा चामुंडेश्वरी सीट पर लौट आए हैं्। इस बार चामुंडेश्वरी की जनता यह साबित कर देगी कि मुख्यमंत्री का निर्णय गलत था। जहां से सिद्दरामैया का राजनीतिक जीवन शुरू हुआ था, वहीं पर समाप्त भी होगा। दोनों पिता-पुत्र क्रमश: चामुंडेश्वरी और वरुणा सीटों से हारकर घर लौटना होगा। सिद्दरामैया चामुंडेश्वरी के विकास के लिए यहां से चुनाव नहीं ल़ड रहे हैं, बल्कि अपने बेटे डॉ. यतींद्र के लिए वह वरुणा सीट खाली करना चाहते हैं।’’कुमारस्वामी ने दावा किया कि उनकी पार्टी राज्य विधानसभा की २२४ सीटों में से ५० प्रतिशत सीटों पर जीत दर्ज करने का लक्ष्य लेकर चल रही है। कुमारस्वामी रामनगर से चुनाव ल़डगें, जहां से वह अब तक लगातार विधानसभा में जाते रहे हैं। उन्होंने कहा कि अगर उनके समर्थक दबाव डालते हैं तो वह किसी अन्य सीट से भी चुनाव ल़डने की सोच सकते हैं।

Facebook Comments

LEAVE A REPLY