• बारिश में सड़क के गड्‌ढे बने सिरदर्द
  • कई इलाकों में फिर से घरों में घुसा पानी
  • सितम्बर के पहले दो दिनों में हुई रिकॉर्ड बारिश

बेंगलूरु। मूसलाधार बारिश से पूरे दिन भीगते रहे बेंगलूरु में शनिवार को भी लोगों को भारी परेशानी झेलनी पड़ी। शहर में लगातार दूसरे दिन तेज बारिश हुई जिससे न सिर्फ निचले इलाकों में एक बार फिर जलजमाव से लोगों को परेशानी हुई बल्कि असंख्य गड्‌ढों से भरी शहर की सड़कों पर वाहनों को रेंगकर चलने के लिए मजबूर होना पड़ा। शनिवार तड़के शुरु हुई बारिश के दौरान शुरुआती अवधि में करीब 65 मिमी बारिश हुई जबकि बारिश का सिलसिला शाम के समय भी बरकरार रहा जिससे सितम्बर के पहले दो दिनों में इसे एक रिकॉर्ड बारिश माना जा रहा है। क्योंकि 1 सितम्बर को शहर में 72 मिमी बारिश हुई थी। हालांकि आधी अधूरी तैयारियों और शहर के अस्त व्यस्त विकास के कारण बहुप्रतीक्षित बारिश में लगातार निचले इलाकों में पानी भरने का सिलसिला बरकरार रहा। शनिवार को एक बार फिर अनुग्रहा लेआउट, एचएसआर लेआउट और कोरमंगला चौथे ब्लॉक के कई घरों में पानी घुस गया। इस दौरान एचएसआर लेआउट के पास स्थित सोमसुुंदरपाल्या झील का पानी अपने किनारों को लांघते हुए सड़क पर आ गया जिससे लोगों को भारी परेशानी झेलनी पड़ी।

गौरतलब है कि शुक्रवार को गुरुवार रात हुई भारी बारिश के बाद पूर्वी बेंगलूरु के कई इलाकों में घरों में पानी घुस गया था। बृहद बेंगलूरु महानगरपालिका (बीबीएमपी) के कंट्रोल रूम में बारिश जनित परेशानियों को लेकर पूरे दिन फोन कॉल आते रहे। बीबीएमपी के अनुसार मुख्यतः मारथहल्ली, एचएसआर लेआउट, कोरमंगला, बन्नरघट्टा रोड और इसरो लेआउट से शिकायतें आईं। बारिश के कारण न सिर्फ लोगों को घरों के भीतर परेशानी झेलनी पड़ी बल्कि लगभग पूरे शहर में ट्रैफिक जाम से परेशानी हुई। अधिकांश सड़कों की दयनीय स्थिति बारिश के दौरान और ज्यादा परेशानी खड़ी कर देती है और शनिवार को भी कुछ ऐसा ही मंजर गड्‌ढों से युक्त सड़कों पर देखा गया।

LEAVE A REPLY