नई दिल्ली/भाषाभारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व सलामी बल्लेबाज गौतम गंभीर का मानना है कि बीसीसीआई ने भले ही क्रिकेट को बेहद लोकप्रिय और सफल इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) दी लेकिन उसने टेस्ट क्रिकेट के प्रचार और प्रसार के लिये कुछ खास नहीं किया। अपनी बेबाक टिप्पणियों के लिये मशहूर गंभीर ने प्रशासकों की समिति (सीओए) के प्रमुख विनोद राय और सीईओ राहुल जोहरी की उपस्थिति में यह बात कही। गंभीर ने कहा, मुझे नहीं लगता कि बीसीसीआई ने टेस्ट क्रिकेट का उस तरह से प्रचार और प्रसार किया जैसा कि उसने वनडे और टी२० के मामले में किया। मुझे वेस्टइंडीज के खिलाफ (२०११ में) ईडन गार्डन्स पर खेला गया टेस्ट मैच याद है। भारत पहले दिन बल्लेबाजी कर रहा था और केवल १००० लोग स्टेडियम में थे। उन्होंने यहां एक कार्यक्रम के दौरान कहा, कल्पना करो कि वीरेंद्र सहवाग, सचिन तेंदुलकर, वीवीएस लक्ष्मण खेल रहे हों और केवल १००० दर्शक मौजूद हों। ऑफ स्पिनर हरभजन सिंह को लगता है कि टेस्ट क्रिकेट दूसरी श्रेणी के शहरों में आयोजित किया जाना चाहिए लेकिन गंभीर को यह समाधान नहीं लगता। भारत की तरफ से ५८ टेस्ट और १४७ वनडे खेलने वाले गंभीर ने कहा, मैं नहीं जानता लेकिन कहीं कुछ ग़डब़डी हुई है। हो सकता है कि उन्हें टी२० और वनडे में कटौती करनी प़डे।

Facebook Comments

LEAVE A REPLY