बेंगलूरु। एक १९ वर्षीय इंजीनियरिंग छात्रा ने अपने राजराजेश्वरी नगर स्थित मकान में कथित रूप से फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। वह शहर के दयानंद सागर कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग में सिविल इंजीनियरिंग प्रथम वर्ष की छात्रा थी। शुरुआती जानकारी के अनुसार मंगलवार सुबह ८.३० बजे वह कॉलेज के लिए निकली थी लेकिन कुछ समय बाद वह वापस घर लौट आई और उस समय उसके अभिभावक घर पर मौजूद नहीं थे। शाम में जब वे वापस लौटे तब उन्होंन मेघना को फंदे पर लटका पाया। इस बीच अभिभावकों ने कथित आरोप लगाया है कि कॉलेज के एक विभाग के एचओडी और कुछ क्लासमेटस् द्वारा मेघना को पिछले कुछ समय से उत्पीि़डत किया जा रहा था। उन्हांेने आरोप लगाया कि मोबाइल चोरी की किसी घटना को लेकर वे लोग मेघना को प्रताि़डत करते थे। उसके सहपाठियों ने उससे बात करना बंद करने के साथ ही व्हाटसएप्प ग्रुप से भी मेघना को रिमूव कर दिया था। वहीं मेघना जब कक्षा प्रतिनिधित्व चुनाव में उतरी तब विवाद और ज्यादा बढ गया। मेघना के पिता चंद्रशेखर ने आरोप लगाया कि यह एक प्रकार का रेगिंग का मामला है जिस कारण मेघना ने तनाव में आकर आत्महत्या का कदम उठाया। हालांकि कॉलेज प्रिंसिपल सी.पी.एस. प्रकाश ने रेगिंग के आरोपों को नकार दिया और कहा कि कॉलेज में रेगिंग विरोधी कमेटी है लेकिन मेघना ने कभी ऐसी शिकायत नहीं की थी। पुलिस ने मामला दर्ज किया है और सभी पक्षों के बयानों के आधार पर जांच कर रही है।

LEAVE A REPLY