gurjar agitation
gurjar agitation

जयपुर/दक्षिण भारत। राजस्थान में गुर्जर आरक्षण आंदोलन रविवार को तीसरे दिन भी जारी रहा। इस दौरान आगरा-मुरैना राजमार्ग पर आंदोलन हिंसक हो गया। जानकारी के अनुसार, धौलपुर जिले में आंदोलनकारियों ने यह मार्ग बंद कराने की कोशिश की थी। इस प्रयास में पुलिस के साथ उनकी झड़प हो गई, जिसके बाद आंदोलन उग्र हो उठा। एक रिपोर्ट के अनुसार, प्रदर्शनकारियों ने कम से कम तीन वाहनों को आग लगा दी।

अब तक शांतिपूर्वक चल रहे आंदोलन के यकायक उग्र होने के बाद प्रशासन भी सतर्क हो गया है। धौलपुर पुलिस अधीक्षक अजय सिंह ने ने बताया कि कुछ हुड़दंगी हवा में गोली भी चला रहे थे। असामाजिक तत्वों ने आगरा-मुरैना राजमार्ग अवरुद्ध करने का प्रयास किया। उन्होंने पुलिस की एक बस सहित तीन वाहनों को आग लगा दी। मौके पर मौजूद पुलिस के चार जवान पथराव से घायल हो गए।

उन्होंने बताया कि एक घंटे बाद राजमार्ग पर वाहनों का आवागमन सुचारु हुआ। वहीं भरतपुर रेंज आईजी भूपेंद्र साहू ने आंदोलनकारियों से अपील की है कि वे शांति बनाए रखें। इसके अलावा गुर्जर नेता कर्नल किरोड़ी सिंह बैंसला ने भी शांति की अपील की। उन्होंने राजस्थान सरकार से कहा कि वह समुदाय की 5 प्रतिशत आरक्षण की मांग पूरी करे। उन्होंने स्पष्ट किया कि जब तक आरक्षण नहीं मिलेगा, यह आंदोलन चलता रहेगा।

उधर, आंदोलन के कारण ट्रेनों के रद्द होने और रूट बदले जाने का सिलसिला जारी है। इससे यात्रियों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। रविवार को सवाईमाधोपुर-बयाना मार्ग पर सात ट्रेनें रद्द की गईं। वहीं नौ ट्रेनों के रूट बदले गए हैं। कोटा डिवीजन की 55 ट्रेनों को रद्द किया गया है। 18 ट्रेनों के रूट में बदलाव किया गया है। संंबंधित रूट पर ट्रेनों को लेकर रेलवे लगातार जानकारी प्रकाशित कर रहा है। बता दें कि शनिवार को आंदोलनकारियों और सरकार के प्रतिनिधिमंडल के बीच बातचीत हुई थी, जिसमें सहमति नहीं बनी।

LEAVE A REPLY