vitamin d and face
vitamin d and face

बेंगलूरु। सूखा रोग समेत कई बीमारियों से हमें बचाने के लिए विटामिन-डी बेहद जरूरी है। इस पोषक तत्व की कमी के लक्षण यह हैं कि अगर आसपास होने वाली घटनाओं को देखने का नजरिया नकारात्मक हो जाए तो शरीर में विटामिन-डी के स्तर की जांच कराए। इस पोषक तत्व की कमी से बेवजह मूड खराब होने, नकारात्मक विचार आने जैसी दिक्कतें होती हैं।

विटामिन-डी की खुराक लेने वाले लोगों को सकारात्मक विचार आते हैं और ऐसे लोग खुशमिजाज होते हैं। एसपीएफ वाला सनस्क्रीन लोशन त्वचा में विटामिन-डी बनाने की क्षमता को कमजोर कर देता है और त्वचा काली होने लगती है। गोरे रंग के लिए सांवली और काली काया वाले लोगों को ज्यादा सूर्य की रोशनी में रहना चाहिए।

विटामिन-डी धूप, दूध, संतरा और अंकुरित अनाज में होता है। अचानक वजन का बढ़ना भी इसका लक्षण हो सकता है। इसकी कमी के चलते वसा ऊर्जा में परिवर्तित नहीं हो पाती है। इससे अचानक शरीर का वजन बढ़ने लगता है। खासकर सर्दियों में हड्डियों में दर्द महसूस हो तो समझें कि इसकी कमी है। इससे मांसपेशियों और जोड़ों में दर्द की भी शिकायत होती है।

विटामिन-डी की कमी की वजह से शरीर में वसा की खपत कम हो जाती है जिससे पेट की कई समस्याएं शुरू हो जाती हैं। पेट में दर्द रहना या बार-बार खराब होना पेट में गैस बनना आदि विटामिन डी की कमी के सूचक हो सकते हैं।

ये भी पढ़िए:
– हल्के में न लें गर्दन का दर्द, अगर बरती लापरवाही तो हो सकती हैं ये मुश्किलें
– बीपी की समस्या से हैं परेशान तो इस पद्धति से कराएं इलाज, हो जाएंगे सेहतमंद
– खानपान में करें इन गुणकारी चीजों को शामिल, सदा रहेंगे तंदुरुस्त
– बच्चों की करें पर​वरिश पर ठीक नहीं अपनी सेहत की अनदेखी, ये नुकसान पड़ सकते हैं भारी

LEAVE A REPLY