पाकिस्तान के विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री फवाद चौधरी
पाकिस्तान के विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री फवाद चौधरी

इस्लामाबाद/भाषा। पाकिस्तान के विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्री फवाद चौधरी ने मंगलवार को अंतरराष्ट्रीय संगठनों से कहा कि वे भारत के अंतरिक्ष अभियान को संज्ञान में लें, जिसे उन्होंने ‘गैर-जिम्मेदाराना’ करार दिया। चौधरी को बड़बोलेपन के लिए जाना जाता है और माना जाता है कि वे प्रधानमंत्री इमरान खान के खास हैं।

चौधरी ने ट्वीट किया, भारत अंतरिक्ष मलबे का एक बड़ा स्रोत बनता जा रहा है, भारत का गैर- जिम्मेदार अंतरिक्ष मिशन पूरे पारिस्थितिक तंत्र के लिए खतरनाक हैं, अंतरराष्ट्रीय संगठनों को इस पर गंभीरता के साथ ध्यान देने की जरूरत है।

उनका ट्वीट नासा द्वारा यह बताने के कुछ घंटों बाद आया कि चंद्रमा की परिक्रमा करने वाले उसके अंतरिक्ष यान को चंद्रमा की सतह पर चंद्रयान-2 के लैंडर विक्रम का मलबा मिला है। करीब तीन महीने पहले भारत ने चंद्रमा की सतह पर इस लैंडर की सॉफ्ट लैंडिंग की कोशिश की थी।

बता दें कि फवाद चौधरी की उक्त टिप्पणी के बाद यूजर्स ने उन्हें ट्विटर पर जमकर खरीखोटी सुनाई। एक यूजर ने लिखा कि अपनी प्रतिभा के दम पर चांद तक पहुंच गया लेकिन पाकिस्तान अभी तक सिर्फ आतंकवादियों की घुसपैठ में ही लगा है। दोनों देशों ने अब तक क्या ईजाद किया, यह इससे स्पष्ट है।

इसी प्रकार एक पाकिस्तानी यूजर ने फवाद को ही फटकारते हुए कहा कि भारत ने अपने बूते अंतरिक्ष कार्यक्रम शुरू किया और चांद तक पहुंचा.. पाकिस्तान सरकार ऐसा क्यों नहीं करती? इसके अलावा अन्य यूजर्स ने फवाद पर चुटकी लेते हुए कहा कि चंद्रयान ​जैसे मिशन आपके बस की बात नहीं, चूंकि पाकिस्तान सिर्फ आतंकवादी तैयार कर सकता है।