रम्या बनीं चेन्नई हवाईअड्डे पर पहली महिला फायर फाइटर

चेन्नई/दक्षिण भारत । चेन्नई हवाईअड्डे को पहली महिला फायर फाइटर मिल गई है। 28 वर्षीया रम्या श्रीकांतन एक नवंबर को हवाईअड्डे के अग्निशमन विभाग में जूनियर असिस्टेंट (एएफएस) के पद पर नियुक्त हुई हैं। रम्या दक्षिण भारत में भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण की पहली और देशभर में तीसरी महिला फायर फाइटर हैं। शामिल होने से पहले, रम्या ने फायर ट्रेनिंग सेंटर (एफटीसी), नई दिल्ली में चार महीने का प्रशिक्षण प्राप्त किया था। अपनी नई जिम्मेदारी के बारे में बात करते हुए रम्या ने कहा, मैं एक ऐसी नौकरी में हूं जो चुनौतीपूर्ण है और इसे सही तरीके से अंजाम देने के लिए आश्वस्त हूं्। मुझे उम्मीद है कि भविष्य में और महिलाएं अग्निशमन सेवाओं से जुड़ेंगी। तिरुवनंतपुरम के एक साधारण पृष्ठभूमि वाले परिवार में जन्मीं रम्या स्ट्रक्चरल इंजीनियरिंग में स्नातकोत्तर हैं्। उन्होंने एएआई में शामिल होने से पहले एलबीएस इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी फॉर वुमेन में सहायक प्रोफेसर के रूप में काम किया। वे दो साल के बच्चे की मां हैं। हवाईअड्डे पर फायर फाइटर की नौकरी में लंबे समय तक पुरुषों का दबदबा रहा है लेकिन अब तस्वीर बदल रही है। भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण (एएआई) ने 2018 में पहली महिला फायर फाइटर को अपने रैंक में शामिल किया था।