शिक्षा प्राप्त करने के लिए भागीरथी अम्मा की ललक ने अनेक लोगों को प्रेरित किया है। तस्वीर: एएनआई।
शिक्षा प्राप्त करने के लिए भागीरथी अम्मा की ललक ने अनेक लोगों को प्रेरित किया है। तस्वीर: एएनआई।

74.5 प्रतिशत अंक हासिल कर रचा इतिहास

तिरुवनंतपुरम/भाषा। केरल की 105 वर्षीया परदादी चौथी कक्षा के समकक्ष परीक्षा उत्तीर्ण कर देश की सबसे अधिक उम्र वाली विद्यार्थी बन गई हैं।

अपने जीवन का शतक पूरा करने वाली भागीरथी अम्मा पिछले वर्ष राज्य साक्षरता अभियान द्वारा कोल्लम में आयोजित परीक्षा में शामिल हुई थीं। इस परीक्षा का परिणाम बुधवार को घोषित किया गया।

अम्मा को बचपन से ही पढ़ाई की ललक रही, लेकिन उनकी यह इच्छा अधूरी ही रही, क्योंकि मां की मौत के बाद छोटे भाई-बहनों की परवरिश की जिम्मेदारी उन पर आ गई थी। अम्मा ने नौ वर्ष की उम्र में तीसरी कक्षा में औपचारिक शिक्षा छोड़ दी थी।

शादी के बाद भी किस्मत ने उन्हें दगा दिया और उनके पति का निधन हो गया। तीस वर्ष की उम्र में ही छह बच्चों की जिम्मेदारी उनके कंधों पर आ गई। अम्मा के 12 पोते-पोतियां और परपोते-परपोतियां हैं।

https://platform.twitter.com/widgets.js

भगीरथी अम्मा केरल राज्य साक्षरता मिशन कार्यक्रम की अभी तक की सबसे बुजुर्ग ‘समतुल्य शिक्षार्थी’ बन गई हैं। गणित में पूर्णांक के साथ उन्होंने कुल 275 अंकों में से 205 अंक हासिल किए हैं।

साक्षरता अभियान द्वारा जारी बयान में कहा गया कि कुल 11,593 विद्यार्थियों ने चौथी कक्षा के समतुल्य परीक्षा में भाग लिया जिसमें से 10,012 सफल रहे। इनमें 9456 महिलाएं हैं। साक्षरता अभियान का उद्देश्य राज्य को चार साल में पूर्ण साक्षर बनाना है।

देश-दुनिया की हर ख़बर से जुड़ी जानकारी पाएं FaceBook पर, अभी LIKE करें हमारा पेज.