रोशन बेग
रोशन बेग

बेंगलूरु/दक्षिण भारत। कर्नाटक के मुख्यमंत्री बीएस येडियुरप्पा ने शुक्रवार को स्पष्ट किया कि सात बार के विधायक आर रोशन बेग, जिन्होंने कांग्रेस से इस्तीफा दिया है, उन्हें आगामी उपचुनाव लड़ने के लिए भारतीय जनता पार्टी से टिकट नहीं मिलेगा।

यहां संवाददाताओं को संबोधित करते हुए येडियुरप्पा ने कहा, ‘मैंने बेग से विस्तार से बात की और समझाया कि परिस्थितियों को देखते हुए हम उन्हें टिकट नहीं दे पाएंगे। मैंने उनसे हमारे उम्मीदवार एम श्रवण के लिए काम करने का अनुरोध किया है। वे आगे क्या करते हैं, यह उन पर है।’

बेग शिवाजीनगर निर्वाचन क्षेत्र का प्रतिनिधित्व कर रहे थे। इसके अलावा, रानीबेनूर से आर शंकर को भगवा दल से टिकट नहीं मिलेगा। हालांकि, उन्हें मंत्री पद का आश्वासन दिया गया है। मुख्यमंत्री ने कहा, ‘मैंने शंकर से बात की और वादा किया कि उन्हें विधान परिषद का सदस्य और फिर मंत्री बनाया जाएगा।’ मुख्यमंत्री ने दावा किया कि उन्होंने अपने वादे पूरे किए हैं। उन्होंने कहा कि रानेबेन्नुर से भाजपा के उम्मीदवार अरुण कुमार पुजार होंगे, जो युवा नेता हैं।

शंकर को रानेबेन्नुर से टिकट नहीं दिया गया, क्योंकि ऐसी चर्चा थी कि उनके जीतने की संभावना कम है। वहीं बेग जो कांग्रेस के बागी हैं, उन्हें अयोग्य घोषित किया गया था। वे भाजपा में शामिल होने की उम्मीद कर रहे थे। इसके अलावा वे शिवाजीनगर से उपचुनाव लड़ने के लिए भाजपा के टिकट की आशा कर रहे थे, लेकिन बेग को न तो शामिल किया गया और न ही टिकट दिया।

विधायकों की अयोग्यता के परिणामस्वरूप पांच दिसंबर को 15 विधानसभा क्षेत्रों में उपचुनाव होगा। भाजपा के लिए यह उपचुनाव इसलिए भी ज्यादा महत्वपूर्ण है क्योंकि उसे विधानसभा में बहुमत सुनिश्चित करने के लिए कम से कम सात से आठ सीटें जीतने की जरूरत है। दूसरी ओर, विपक्षी कांग्रेस के लिए यह उपचुनाव बागियों से मुकाबला करने का एक अवसर है।