जीएसटी
जीएसटी

नई दिल्ली/भाषा। पूर्वोत्तर राज्यों में माल एवं सेवा कर संग्रह वित्त वर्ष 2019-20 के पहले चार महीनों में 30 प्रतिशत की वृद्धि हुई है। यह वृद्धि विनिर्माण वाले बड़े राज्यों के मुकाबले अधिक है।

माल एवं सेवा कर (जीएसटी) संग्रह में वृद्धि पूर्वोत्तर के सातों राज्यों में दर्ज की गई। यह राष्ट्रीय औसत 9 प्रतिशत के मुकाबले तीन गुना अधिक है।

निरपेक्ष रूप से कुल कर संग्रह चालू वित्त वर्ष के अप्रैल-जुलाई में बढ़कर 3.56 लाख करोड़ रुपए रहा। पूर्वोत्तर राज्यों में नगालैंड में अप्रैल-जुलाई के दौरान सर्वाधिक 39 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की गई और 393 करोड़ रुपए रहा।

उसके बाद अरुणाचल प्रदेश का स्थान रहा जहां आलोच्य अवधि में यह 35 प्रतिशत बढ़कर 514 करोड़ रुपए रहा। सिक्किम में यह 32 प्रतिशत बढ़कर 370 करोड़ रुपए रहा।

आंकड़ों के अनुसार, मेघालय में जीएसटी संग्रह चालू वित्त वर्ष में अप्रैल-जुलाई के दौरान 30 प्रतिशत बढ़कर 680 करोड़ रुपए, मिजोरम 27 प्रतिशत बढ़कर 350 करोड़ रुपए रहा। त्रिपुरा और मणिपुर में भी जीएसटी संग्रह में वृद्धि दर्ज की गई।