राजस्थान भाजपा अध्यक्ष सतीश पूनिया
राजस्थान भाजपा अध्यक्ष सतीश पूनिया

जयपुर/भाषा। भाजपा के प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनिया ने मंगलवार को कहा कि राजस्थान 2023 में कांग्रेस मुक्त होगा और भाजपा का अभेद किला बनेगा। भाजपा मुख्यालय पर प्रदेशाध्यक्ष का पदभार ग्रहण करने के बाद कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए पूनिया ने संकल्प लेते हुए कहा कि 2023 के बाद राजस्थान कांग्रेस मुक्त होगा और भाजपा का अभेद्य किला कोई बनेगा तो राजस्थान बनेगा। ‘अजेय राजस्थान’ बनाएंगे..’अजेय भाजपा’ बनाएंगे।

पूनिया ने राज्य की कांग्रेस सरकार पर हमला करते हुए कहा कि सरकार ने अपने दस माह के कार्यकाल में किसानों और युवाओं के साथ-साथ आम जनता के साथ छलावा किया है। उन्होंने कहा, आमतौर पर सत्ता विरोधी लहर तीन-चार साल के बाद विकसित होती है, लेकिन राज्य में कांग्रेस सरकार के दस महीने के कार्यकाल में ही यह लहर दिखाई दे रही है। पूनिया ने आरोप लगाया कि कांग्रेस सरकार ने लोगों के साथ विश्वासघात किया है और वह हर मोर्चे पर विफल रही है।

उन्होंने कहा, इस राजस्थान को कांग्रेस मुक्त बनाएंगे…यह काम पहले भी हो सकता है…। कैसे हो सकता है, दो उपचुनाव हैं मंडावा और खींवसर का और राजस्थान की जनता के साथ जो अन्याय हुआ है, जो झूठ बोला गया, उस झूठ का प्रतीकार करने का पहला कोई अवसर है तो यह दोनों उपचुनाव हैं।

पूनियां ने कहा, छह बसपा विधायकों से कांग्रेस मजबूत नहीं कमजोर हो गई है। ऐसी कमजोर सरकार को उपचुनाव और निकाय चुनाव में धक्का दे दोगे तो आपका काम हो जाएगा.. जो आप चाहते हो। उल्लेखनीय है कि राज्य में 21 अक्टूबर को नागौर के खींवसर और झुंझुनूं के मंडावा विधानसभा क्षेत्र में उपचुनाव और नवंबर माह में प्रदेशभर में निकाय चुनाव होना प्रस्तावित है।

उन्होंने कहा कि इस राजस्थान की धरती पर जिस प्रकार की अराजक सरकार आई है.. पिछले 10 माह में दलितों पर सबसे ज्यादा अत्याचार हुए हैं। विकास के काम ठप्प हैं और केन्द्र की योजनाओं को रोका जा रहा है। उन्होंने कहा कि केन्द्र सरकार की योजनाओं को लागू करने में राजस्थान सरकार इसलिए रोड़ा अटकाती है कि कहीं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा को श्रेय न मिल जाए।

उन्होंने कहा कि मैं पिछले 37 सालों से पार्टी के लिए काम कर रहा हूं। मैं इस पद पर पहुंचा हूं और यह पार्टी कार्यकर्ताओं का सम्मान है। पूनियां ने कहा, मैं विश्वास दिलाता हूं कि पार्टी कार्यकर्ताओं का सिर झुकने नहीं दूंगा। इस अवसर पर केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर, अर्जुनराम मेघवाल, कैलाश चौधरी, राजस्थान विधानसभा में प्रतिपक्ष उपनेता राजेन्द्र राठौड़ सहित प्रदेशभर से आए हुए बड़ी संख्या में कार्यकर्ता मौजूद थे।