उच्चतम न्यायालय
उच्चतम न्यायालय

नई दिल्ली/भाषा। उच्चतम न्यायालय ने पूर्व केन्द्रीय मंत्री और भाजपा नेता स्वामी चिन्मयानंद पर प्रताड़ना के आरोप लगाने वाली कानून की छात्रा को शुक्रवार को ही शीर्ष अदालत में पेश करने का आदेश दिया। यह छात्रा आरोप लगाने के बाद लापता हो गई थी और अब राजस्थान में मिली है।

उत्तर प्रदेश सरकार के अधिवक्ता ने न्यायालय को सूचित किया कि कानून की यह छात्रा शुक्रवार को राजस्थान में मिली है और उसे उसके माता-पिता से मिलाने के लिये शाहजहांपुर ले जाया जा रहा है। न्यायमूर्ति आर भानुमति और न्यायमूर्ति एएस बोपन्ना की पीठ ने राज्य सरकार के अधिवक्ता से कहा कि वह सूचित करें कि इस छात्रा को कब तक न्यायालय में पेश किया जा सकता है। अधिवक्ता ने कहा कि पुलिस दल के साथ यह छात्रा शाहजहांपुर के रास्ते में है और अभी फतेहपुर सीकरी पहुंची है।

अधिवक्ता ने कहा कि यदि न्यायालय प्राधिकारियों से उसे आज ही पेश करने के लिए कहेगा तो उसे ढाई घंटे में यहां लाया जा सकता है। अधिवक्ता का यह कथन सुनने के बाद पीठ ने राज्य सरकार को निर्देश दिया कि इस छात्रा को आज ही न्यायालय में पेश किया जाए। पीठ ने कहा कि वह अपने चैम्बर में इस छात्रा से बातचीत करना चाहती है और इसके बाद पीठ उचित आदेश देगी।

इस छात्रा के लापता होने और चिन्मयानंद द्वारा उत्पीड़न के आरोपों का वीडियो क्लिप सामने आने के बाद मंगलवार को शाहजहांपुर पुलिस ने चिन्मयानंद के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की थी। इस छात्रा ने अपने और अपने परिवार की जान को खतरा होने की बात भी कही है।