सांकेतिक चित्र
सांकेतिक चित्र

भोपाल/भाषा। शिवपुरी जिले के सुमेला गांव के एक दिहाड़ी मजदूर का घर से बाहर निकलना दूभर हो गया है। वह घर से बाहर निकलता है और उन पर कौओं का एक झुंड हमला शुरू कर देता है। यह सिलसिला तीन सालों से चल रहा है।कौओं के हमले से बचने के लिए शिव केवट हमेशा एक छड़ी लेकर चलता है लेकिन आसमान में उड़ते कौए अवसर की तलाश में रहते हैं कि कब उसके सिर पर चोंच से वार करें।

केवट ने बताया कि यह सब तीन साल पहले शुरू हुआ था। उसने लोहे की तार में फंसे कौए के एक बच्चे को बचाने के लिए उठाया लेकिन उसने उसके हाथ में ही दम तोड़ दिया। केवट का कहना है कि इसलिये कौओं ने यह समझा कि मैंने उसे मारा। काश मैं उन्हें समझा पाता कि मैं केवल उसकी मदद करने की कोशिश कर रहा था। केवट ने कहा, उस दिन के बाद, अब मैं जब भी घर से बाहर निकलता हूं तो अपने बचाव के लिए एक छड़ी हाथ में लेकर निकलता हूं लेकिन फिर भी कई दफा उनके हमले से बच नहीं पाता।

35 वर्षीय दिहाड़ी मजदूर केवट के ठेकेदार काले खटीक ने बताया, कौओं का दोष दूर करने और इस मुसीबत से छुटकारा पाने के लिए केवट ने एक साल पहले पूजा-पाठ भी करवाया था, लेकिन उससे कोई फायदा नहीं हुआ। केवट के इस दावे के संबंध में पक्षी विशेषज्ञ अजय गड़ीकर ने इंदौर से फोन पर बताया कि यह बिल्कुल संभव है क्योंकि पक्षियों की याददाश्त अच्छी होती है। उनकी कई इंद्रियां मनुष्य से अधिक तेज होती हैं इसलिए पक्षियों की कई प्रजातियां हजारों मील तक एक जगह से दूसरी जगह विस्थापित होने के बाद पुन: मूल स्थान पर लौट आती हैं।

उन्होंने बताया, कौए एक आदमी को चेहरे से पहचान सकते हैं और पक्षियों में कौए आक्रामक भी होते हैं। उनकी देखने, सुनने की शक्ति मानव से अधिक होती है। सामान्य तौर पर एक कौए की आयु 15-20 साल होती है।