पी चिदंबरम
पी चिदंबरम

नई दिल्ली/दक्षिण भारत। वरिष्ठ कांग्रेस नेता और पूर्व वित्त मंत्री पी. चिदंबरम की मुश्किलेंं बढ़ती जा रही हैं। दिल्ली उच्च न्यायालय द्वारा अंतरिम जमानत याचिका खारिज किए जाने के बाद चिदंबरम के वकीलों ने उच्चतम न्यायालय का रुख किया और राहत देने की मांग की।

यहां जस्टिस रमन्ना ने कहा कि वे इस मामले पर कोई आदेश नहीं दे रहे हैं। वे मामले को सीजेआई रंजन गोगोई के पास भेज रहे हैं। सीजेआई इस मामले को देखेंगे। एक रिपोर्ट के अनुसार, इस समय सीजेआई गोगोई अयोध्या मामले की सुनवाई कर रहे हैं। चिदंबरम का मामला बाद में सुना जाएगा।

उधर, प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) की ओर से भी से चिदंबरम के खिलाफ लुकआउट सर्कुलर जारी कर दिया गया है। इसका मतलब है कि अगर चिदंबरम देश से बाहर जाने की कोशिश करेंगे तो उन्हें हवाईअड्डे से पकड़ा जा सकता है।

सीबीआई अधिकारियों का एक ​दल बुधवार सुबह एक बार फिर चिदंबरम के आवास पर गया। हालांकि चिदंबरम उन्हें वहां नहीं मिले। अधिकारियों के अनुसार, एक दल बुधवार सुबह चिदंबरम के जोर बाग स्थित आवास पर उन्हें ढूंढ़ने पहुंचा था लेकिन मंगलवार की तरह ही वापस लौट आया। चूंकि चिदंबरम वहां नहीं थे।

पूर्व वित्त मंत्री की कानूनी टीम ने सीबीआई को पत्र लिखकर अपील की थी कि उच्चतम न्यायालय में बुधवार को उनकी याचिका पर सुनवाई से पहले बलपूर्वक कोई कार्रवाई न की जाए।