भारत निर्वाचन आयोग
भारत निर्वाचन आयोग

नई दिल्ली/वार्ता। चुनाव आयोग ने लोकसभा चुनाव के मतों के मिलान में गड़बड़ी की खबरों को बेबुनियाद बताया है और कहा है कि इस चुनाव के अंतिम आंकड़े अभी तक सार्वजानिक नहीं किये जा सके हैं, इसलिए मतों के मिलान के बारे में कोई सही निष्कर्ष अभी नहीं निकला जा सकता।

आयोग ने शनिवार को यहाँ जारी बयान में कहा कि उसकी वेबसाइट पर जो आंकड़े दिखाए गये हैं वे अभी अंतिम नहीं हैं बल्कि अंतरिम हैं, इसलिए उनके आधार पर कोई निष्कर्ष नहीं निकाला जा सकता है।

बयान में कहा गया है कि पहले चुनाव के बाद निर्वाचन अधिकारियों से चुनाव के अभिप्रमाणित आंकड़े एकत्र होने में दो से तीन माह लग जाते थे लेकिन नई प्रौद्योगिकी के अनुसार सभी राज्यों से सभी निर्वाचन क्षेत्रों से मतदाताओं के आंकड़े एकत्र कर लिए गये हैं और सभी 542 सीटों के इंडेक्स फॉर्म जल्द ही आने वाले हैं।

उन आंकड़ों की जांच के बाद उसे सार्वजानिक कर दिया जायेगा इसलिए अभी निष्कर्ष निकलना सही नहीं है। आयोग ने कहा है कि उसकी वेबसाइट पर लिखा है, ये आंकड़े गलत भी हो सकते हैं। आयोग के अनुसार इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन ( ईवीएम) और पोस्टल बैलेट पेपर की गिनती के बाद ही निर्वाचन अधिकारी फॉर्म 21 ई और इंडेक्स पेपर तैयार किये जाते हैं।

LEAVE A REPLY

sixteen + ten =