pm narendra modi
pm narendra modi

नई दिल्ली। देश में सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यमों (एमएसएमई) की बेहतरी के लिए केंद्र सरकार ने एक बड़ा फैसला लिया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एमएसएमई को बढ़ावा देने के लिए सपोर्ट एंड आउटरीच इनिशिएटिव कार्यक्रम की शुरुआत की। उन्होंने ऐलान किया है कि इन उद्यमों के लिए कारोबारियों को एक घंटे से भी कम समय में एक करोड़ रुपए तक का कर्ज दिया जाएगा। मोदी ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए लघु उद्यम क्षेत्र के लिए सरकार द्वारा लिए गए 12 महत्वपूर्ण फैसलों के बारे में बताया। उन्होंने कहा कि इनसे अर्थव्यवस्था को मजबूती मिलेगी।

प्रधानमंत्री ने दिल्ली के विज्ञान भवन में आयोजित एक कार्यक्रम के दौरान इन उद्यमों की बेहतरी को लेकर सरकार द्वारा किए जा रहे प्रयासों को रेखांकित किया। साथ ही 59 मिनट्स लोन वेबसाइट के फायदों के बारे में बताया। इस मौके पर उन्होंने विश्व बैंक की कारोबार सुगमता सूची में भारत की रैंकिंग में आए सुधार का भी उल्लेख किया।

बढ़ेगी पूंजी की पहुंच
प्रधानमंत्री ने कहा कि इस वेबसाइट के जरिए लघु और मध्यम उद्यमों को ताकत देने के लिए सिर्फ 59 मिनट में कर्ज की मंजूरी मिल जाएगी। इस तरह केंद्र का यह प्रयास देश में करोड़ों लघु उद्यमों को ऊर्जा देगा। मोदी ने कहा कि केंद्र सरकार इन उद्योगों को बढ़ावा देने के लिए 12 महत्वपूर्ण फैसलों को अंतिम रूप दे चुकी है। उन्होंने इस फैसले को दिवाली का तोहफा बताया है।

प्रधानमंत्री ने कहा है कि इस फैसले से सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यमों तक पूंजी की पहुंच बढ़ेगी और देश को इसके फायदे मिलेंगे। उन्होंने बताया कि केंद्र सरकार की ये नीतियां इस क्षेत्र में ज्यादा रोजगार पैदा करने में सहायक होंगी। साथ ही ये उद्यम और मजबूत होंगे। उन्होंने बताया कि सरकार की 12 नीतियों में ही कर्ज देने की उक्त नीति सम्मिलित है।

सुगमता सूची में बजा डंका
प्रधानमंत्री ने सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यमों के देश की अर्थव्यवस्था में योगदान को सराहा है। उन्होंने कहा है कि इनके बूते हमारा देश आर्थिक ऊर्जाघर बन गया है। मोदी ने विश्व बैंक की कारोबार सुगमता सूची में भारत की लंबी छलांग की प्रशंसा की। उन्होंने कहा कि भारत ने जो किया है वह लोगों की कल्पना से परे था। उन्होंने पूरी उम्मीद जताई कि भारत का इस सूची के शीर्ष 50 देशों में आना ज्यादा दूर नहीं है। उल्लेखनीय है कि भारत इस सूची में 23 पायदान का सुधार कर 77वें स्थान पर आ गया है।

मोदी ने एमएसएमई को करोड़ों देशवासियों की आय का साधन बताया। उन्होंने कहा कि यह कृषि के बाद सबसे ज्यादा रोजगार देने वाला क्षेत्र है। मोदी ने खेती को अर्थव्यवस्था की रीढ़ और लघु उद्यमों को मजबूत कदम बताया, जिनसे तरक्की को रफ्तार मिलती है।

मिलेंगे रोजगार के मौके
प्रधानमंत्री ने बताया कि कहीं दूर, देश के किसी कोने में बैठे आपके उद्यमी भाई या बहन को मात्र 59 मिनट में एक करोड़ रुपए तक के कर्ज की मंजूरी इस वक्त भी दी जा रही है। उन्होंने कहा कि जीएसटी का पंजीकरण कराए उक्त उद्योगों को एक करोड़ की रकम तक के नए कर्ज अथवा इन्‍क्रीमेंटल लोन पर ब्याज में 2 प्रतिशत की छूट देय होगी।

इस मौके पर उन्होंने सरकार द्वारा उद्यमियों के हितों में लिए गए अन्य फैसलों की जानकारी दी और उनके फायदे गिनाए। देश में डिजिटल लेनदेन, जीएसटी और ई-कॉमर्स से आ रहे व्यापक बदलावों के बारे में बताया। उन्होंने कहा कि ये 12 फैसले इन उद्यमों को मजबूत करेंगे और रोजगार के अनेक अवसर देकर नया अध्याय लिखेंगे। वित्त मंत्री अरुण जेटली ने बताया कि केंद्र में मोदी सरकार आने के बाद अर्थव्यवस्था के क्षेत्र में कई सुधार आए हैं। भारतीय अर्थव्यवस्था विश्व में छठे स्थान पर आ गई है जो पहले नौवें स्थान पर थी।

LEAVE A REPLY

3 × one =