आतंकी मसूद अजहर
आतंकी मसूद अजहर

नई​ दिल्ली/दक्षिण भारत। पुलवामा हमले के बाद भारतीय वायुसेना ने पाक में दाखिल होकर खैबर पख्तूनख्वाह के बालाकोट स्थित जैश-ए-मोहम्मद के अड्डे पर बड़ी कार्रवाई की थी। वायुसेना ने बम बरसाकर जैश के कई आतंकियों का खात्मा कर दिया था। अब ऐसी रिपोर्ट आ रही हैं कि वायुसेना की उस कार्रवाई में जैश के कमांडो, प्रशिक्षक और आतंकवादी ही नहीं, बल्कि उसका सरगना मौलाना मसूद अजहर भी मारा गया। हालांकि इसकी पुष्टि अभी नहीं हुई है परंतु अटकलों का बाजार गर्म है।

एक अंग्रेजी वेबसाइट ने पत्रकारों की रिपोर्टों और पाक सरकार के हवाले से आ रहीं खबरों के आधार पर यह दावा किया है कि मसूद अजहर की मौत हो चुकी है। भारतीय वायुसेना की कार्रवाई के बाद पाकिस्तानी फौज और प्रधानमंत्री इमरान खान ने दावा किया था कि उनके यहां कोई नुकसान नहीं हुआ, लेकिन फौज के प्रवक्ता आसिफ गफूर और इमरान के चेहरे पर तनाव साफ दिखाई दे रहा था। अब एक पाकिस्तानी पत्रकार ताहा सिद्दिकी ने ट्विटर पर जैश मौलाना का ऑडियो जारी किया है, जिसमें वह भारत के खिलाफ जहर उगल रहा है। साथ ही इस बात की पुष्टि कर रहा है कि भारतीय वायुसेना ने बालाकोट में जैश कैंप पर बम बरसाकर भारी तबाही मचाई थी। वह युवाओं को भारत के खिलाफ जिहाद करने के लिए भड़का रहा है।

बालाकोट में जैश के कैंप के पास लगा साइनबोर्ड। इस पर उर्दू में लिखा है 'मदरसा तालीम अल-क़ुरआन'। इस पर मसूद अज़हर को संरक्षक और यूसुफ अज़हर को निरीक्षक बताया गया है।
बालाकोट में जैश के कैंप के पास लगा साइनबोर्ड। इस पर उर्दू में लिखा है ‘मदरसा तालीम अल-क़ुरआन’। मसूद अज़हर को संरक्षक और यूसुफ अज़हर को निरीक्षक बताया गया है।

इससे आसानी से समझा जा सकता है कि भारतीय वायुसेना ने बालाकोट में किस स्तर की कार्रवाई की थी। वहीं, एक अन्य रिपोर्ट में बताया गया है कि बहुत जल्द भारतीयों को यह खबर मिल सकती है कि मसूद अजहर की मौत हो गई। इस रिपोर्ट में दावा किया गया है कि भारत की ओर से जब बालाकोट में कार्रवाई की गई तो उस समय मसूद अजहर वहीं मौजूद था।

आईएसआई का अफसर भी ढेर!
जैश कैंप पर सटीक निशाना लगाकर दागी गई मिसाइल की चपेट में आने से मसूद अजहर बुरी तरह घायल हो गया था। रिपोर्ट कहती है कि मसूद के साथ ही वहां कर्नल सलीम नामक आईएसआई अफसर भी था। दोनों को फौजी अस्पताल पहुंचाया गया लेकिन कर्नल की मौत वहां पहुंचने से पहले ही हो चुकी थी। रिपोर्ट के अनुसार, भारत की कार्रवाई की खबर सुन पाकिस्तानी फौज ने इस इलाके को अपने कब्जे में ले लिया। यहां तक कि स्थानीय पुलिस को भी इधर आने की इजाजत नहीं दी गई। बाद में चीजों को दुरुस्त कर कुछ पत्रकारों को यहां लाकर बताया गया कि देखिए, कुछ हुआ ही नहीं। रिपोर्ट कहती है कि 2 मार्च को मसूद अजहर की मौत हुई।

ट्विटर पर वायरल दो तस्वीरें। दावा किया गया है कि ये बालाकोट स्थित जैश कैंप की हैं। पहली तस्वीर में कैंप की इमारतें दिखाई हैं। दूसरी में यह जगह खाली है। हालांकि तस्वीरों की पुष्टि नहीं हुई है।
ट्विटर पर वायरल दो तस्वीरें। दावा किया गया है कि ये बालाकोट स्थित जैश कैंप की हैं। पहली तस्वीर में कैंप की इमारतें दिखाई हैं। दूसरी में यह जगह खाली है। हालांकि तस्वीरों की पुष्टि नहीं हुई है।

मसूद की ‘बीमारी’ का राज़
ऐसे में बदले हालात के मद्देनजर आईएसआई ने बेहद शातिराना ढंग से मीडिया में यह खबर फैलानी शुरू कर दी कि मसूद अजहर के गुर्दे खराब हो गए हैं और वह इतना बीमार है कि कमरे से बाहर तक नहीं निकल पाता। पाक के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी भी यह बयान दे चुके हैं जिसे पाकिस्तानी मीडिया जोरशोर से प्रकाशित कर रहा है। जिस पाकिस्तान ने कभी मसूद की पाक में मौजूदगी को स्वीकार नहीं किया, उसने अचानक उसके गुर्दे खराब होने और बुरी तरह बीमार होने वाला बयान क्यों दिया। इससे भी अटकलों को बल मिला है।

रिपोर्ट के मुताबिक, पाकिस्तान आने वाले कुछ दिनों में यह खबर दे सकता है कि बीमारी की हालत में मसूद की मौत हो गई। इस तरह पाकिस्तान चाहता है कि मसूद की ‘कुदरती मौत’ का ऐलान कर वह अंतरराष्ट्रीय दबाव से बच जाए और भारत को भी कार्रवाई का श्रेय लेने से रोक सके। साथ ही पाकिस्तान की कौम के गुस्से का शिकार होने से भी बच सके। हालांकि अभी इस रिपोर्ट की पुष्टि नहीं हुई है, लेकिन अगर ऐसा हुआ तो यकीनन यह आतंकवाद के खिलाफ भारत की बहुत बड़ी जीत होगी।

LEAVE A REPLY

three + four =