जैन पारिवारिक माहौल में संचालित हो रहा है जीतो हॉस्टल

बेंगलूरु। ‘यहां शहर में अध्ययन करने आए समाज के होनहार व जरुरतमंद छात्रों के आवास के लिए बेंगलूरु में संचालित हो रहे छात्रावास में पारिवारिक माहौल प्रदान किया जा रहा है, साथ ही छात्रों में जैन संस्कारों के साथ उनके व्यक्तित्व विकास हेतु समय-समय पर कार्यशालाओं का आयोजन किया जाता है।’’ यह कहना है जैन इन्टरनेशनल ट्रेड ऑर्गेनाइजेशन (जीतो) के जेएटीएफ ‘जीतो एडमिनिस्ट्रेटिव ट्रैनिंग फाउण्डेशन’’ विंग के तहत संचालित शहर के बन्नरघट्टा रो़ड पर स्थित एसपी गुलेच्छा जीतो हॉस्टल के चेयरमैन कुशल गुलेच्छा का। उन्होंने बताया कि १४० विद्यार्थियों की क्षमता वाले ५० कमरों के चार मंजिला इस छात्रावास भवन में जैन भोजन, अनुशासन व बच्चों को संस्कारित रखना उनका लक्ष्य है। छात्रावास में विद्यार्थियों की दक्षता व प्रतिभा के अनुरुप साक्षात्कार सहित पूर्ण प्रक्रिया के बाद ही छात्रों को प्रवेश दिया जाता है। बीते तीन वर्षों से संचालित हो रहे जीतो के इस हॉस्टल के सफल संचालन से अभिभावकों में भी प्रसन्नता व निश्चितंता बनी है। देश के करीब छह प्रांतों (कर्नाटक, राजस्थान, तमिलनाडु, छत्तीसग़ढ, आन्ध्रप्रदेश व मध्यप्रदेश) के जैन समाज के इन विद्यार्थियों में सीए व एमबीए कोर्स करने वालों की संख्या अधिक है। कुशल गुलेच्छा के मुताबिक हॉस्टल परिसर में खेलकूद व मनोरंजन की प्रतियोगिताएं भी छात्रों की रुचि अनुसार की जाती है। उन्होंने बताया कि हमारा उद्देश्य इतना भर है कि जैन परिवार का कोई भी होनहार छात्र जो उच्च शिक्षा में आगे ब़ढना चाहता है, उसे सुव्यवस्थित सामाजिक प्लेटफॉर्म मिले। छात्रावास में मेरिटॉरियस व आर्थिक रुप से जरुरतमंदों को प्राथमिकता दी जाती है। गुलेच्छा ने बताया कि छात्रावास में छात्रों को प्रवेश देते समय बहुत ही सावधानियां बरती जाती हैं ताकि जरुरतमंद को ही इस सुविधा का लाभ मिल सके। उन्होंने बताया कि प्रवेश प्रक्रिया गतिमान है तथा जून माह से छात्रावास पुन: प्रारंभ हो जाएगा। गुलेच्छा के साथ सहचेयरमैन अनिल संकलेचा यहां छात्रों के चयन से लेकर हॉस्टल के पूर्ण रखरखाव और जरुरतों का ध्यान रखते हैं। उन्होंने बताया कि आगामी वर्ष में इसे पूर्णतया वातानुकूलित किया जाएगा। साथ ही छात्रों की प्रतिवर्ष ब़ढती संख्या के मद्देनजर दानदाताओं के सहयोग से एक और हॉस्टल के भवन निर्माण हेतु कार्य गतिमान है।

LEAVE A REPLY

five × 5 =