जेरेमी एवं अन्य नेताओं से मुलाकात करने पहुंचा कांग्रेस का प्रतिनिधिमंडल
जेरेमी एवं अन्य नेताओं से मुलाकात करने पहुंचा कांग्रेस का प्रतिनिधिमंडल

नई दिल्ली/लंदन/दक्षिण भारत। ब्रिटेन की लेबर पार्टी के एक नेता से कांग्रेसियों की मुलाकात के बाद सियासी पारा चढ़ गया है। इस ब्रिटिश नेता का नाम जेरेमी कॉर्बिन है जो कई बार कश्मीर का मुद्दा उठाकर पाकिस्तानी दावे को हवा देता रहा है। उसने कांग्रेस के प्रतिनिधिमंडल से मुलाकात के बाद भी कश्मीर का मुद्दा उठाया और कहा कि हिंसा का दौर खत्म हो एवं क्षेत्र में तनाव कम करने की कोशिश होनी चाहिए।

ब्रिटिश नेता के इस बयान के बाद भाजपा ने कांग्रेस पर हमला बोला। एक ट्वीट में भाजपा ने कहा कि कांग्रेस को इसका जवाब देना चाहिए कि उसके नेताओं ने विदेशी नेताओं से चर्चा के दौरान क्या बात कही।

मामले पर विवाद बढ़ता देख कांग्रेस नेता आनंद शर्मा ने कहा कि कश्मीर पूरी तरह भारत का आंतरिक मामला है। बता दें कि जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद-370 हटाए जाने के बाद भारत ने विभिन्न मंचों से स्पष्ट कहा है कि यह हमारा आंतरिक मामला है।

क्या बोले जेरेमी?
वहीं, ब्रिटिश नेता जेरेमी कुछ और ही बयान दे रहे हैं। उन्होंने ‘तनाव’ को तुरंत कम किए जाने की जरूरत पर जोर दिया। साथ ही ‘लंबे समय से चल रहे हिंसा व भय के दौर’ को खत्म करने की बात कही। ब्रिटिश नेता ने कहा कि कांग्रेस पार्टी के साथ काफी अच्छी मुलाकात हुई। बैठक में कश्मीर में मानवाधिकार की स्थिति पर चर्चा की।

दूसरी ओर, भाजपा ने जेरेमी के बयान को लेकर कांग्रेस से जवाब मांगा। उसने ब्रिटिश नेता द्वारा इस्तेमाल किए गए शब्द ‘भय उत्पन्न करने वाला’ का जिक्र करते हुए कहा कि देश की जनता कांग्रेस से सफाई चाहती है कि उसके नेताओं ने विदेशी नेताओं से क्या बात की? भाजपा ने इसे ‘धोखाबाजी’ करार देते हुए कहा कि जनता इसका करारा जवाब देगी।

कांग्रेस की सफाई
इस मामले पर वरिष्ठ कांग्रेस नेता आनंद शर्मा ने कहा कि उनकी पार्टी 6 अगस्त को ही प्रस्ताव में स्पष्ट कर चुकी है कि जम्मू-कश्मीर से संबंधित हर मुद्दा देश का आंतरिक ममला है। एक रिपोर्ट के अनुसार, उक्त बैठक में इंडियन ओवरसीज कांग्रेस अध्यक्ष कमल धालीवाल, महासचिव गुरमिंदर रंधावा भी शामिल हुए। धालीवाल पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के नजदीकी माने जाते हैं। सोशल मीडिया में धालीवाल की कई तस्वीरें वायरल हो रही हैं जिनमें वे राहुल गांधी के अलावा पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह और वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल के साथ दिखाई दे रहे हैं।

भाजपा का प्रहार
भाजपा की ओवरसीज सेल प्रमुख डॉ. विजय चौथाईवाले ने कहा कि लेबर पार्टी ने भारत विरोधी और पाक समर्थक रुख अपनाया है। उन्होंने कहा कि जेरेमी से मुलाकात मामले में कांग्रेस मुकर नहीं सकती, क्योंकि ब्रिटिश नेता यह कह चुके हैं। उन्होंने इस मुलाकात को अनुचित बताया और कहा कि लेबर पार्टी नेताओं को इस तरह महत्व दिया जाना भारत के हित में नहीं है। डॉ. विजय ने कांग्रेस से सफाई की मांग की और दावा किया कि इस घटना से ब्रिटेन में रहने वाले भारतीय नाराज हैं और वे लेबर पार्टी के नेताओं का बहिष्कार करेंगे।

शस्त्रपूजा पर बयान से कांग्रेस की किरकिरी
बता दें कि यह मामला ऐसे समय में सामने आया है जब कांग्रेस दशहरे पर ‘शस्त्रपूजा’ के संबंध में मल्लिकार्जुन खरगे और संदीप दीक्षित के विवादित बयानों के कारण आलोचना का सामना कर रही है। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह जब देश के लिए पहला राफेल लाने फ्रांस गए हुए थे, तब वहां उन्होंने विधिवत शस्त्रपूजा की। उन्होंने विमान पर मांगलिक चिह्न बनाए, जिसके बाद खरगे ने इसे ‘तमाशा’ कहा था। इसके जवाब में सोशल मीडिया पर यूजर्स ने कांग्रेस और खरगे को खूब खरी-खरी सुनाई।