नीरज शेखर नामांकन दाखिल करते हुए।
नीरज शेखर नामांकन दाखिल करते हुए।

लखनऊ/भाषा। पूर्व प्रधानमंत्री चंद्रशेखर के पुत्र नीरज शेखर ने राज्यसभा उपचुनाव के लिए भाजपा प्रत्याशी के रूप में बुधवार को नामांकन दाखिल किया। शेखर ने बाद में कहा कि सपा के नेतृत्व पर अब कोई विश्वास नहीं रह गया है और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से प्रेरित होकर ही दूसरे दलों के नेता भाजपा में शामिल हो रहे हैं।

हाल में सपा और राज्यसभा की सदस्यता से इस्तीफा देने वाले शेखर को भाजपा ने अपना प्रत्याशी बनाया। उन्होंने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, भाजपा प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह और अन्य वरिष्ठ नेताओं की उपस्थिति में पर्चा दाखिल किया।

दिलचस्प बात यह है कि विधान परिषद सदस्य रवि शंकर सिंह पप्पू सहित सपा के वरिष्ठ नेता भी नामांकन दाखिल करते समय मौजूद रहे। शेखर का निर्विरोध चुना जाना तय है। नामांकन करने की अंतिम तिथि बुधवार थी जबकि नामांकन पत्रों की जांच 16 अगस्त को होगी। नामांकन पत्र वापस लेने की अंतिम तिथि 19 अगस्त है।

बाद में संवाददाताओं से बातचीत में शेखर ने कहा कि वे राज्यसभा सदस्य का उम्मीदवार बनाने के लिए प्रधानमंत्री मोदी को धन्यवाद देते हैं। वे प्रयास करेंगे कि भाजपा को कैसे और मजबूत किया जाए।

उन्होंने सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव पर आरोप लगाते हुए कहा कि सपा नेतृत्व में अब किसी को विश्वास नहीं रह गया है। सब समझ गए हैं कि लोकसभा चुनाव परिणाम के बाद नेतृत्व खुद उदास है और वह कुछ काम नहीं करना चाहता।

विपक्षी दलों के नेताओं के एक-एक कर भाजपा में शामिल होने के बारे में पूछे जाने पर शेखर ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी पूरी निष्ठा के साथ काम करते हैं, इसलिए सब उनके प्रति निष्ठा जता रहे हैं।

इस बीच, राज्यसभा के बाद अब उत्तर प्रदेश विधान परिषद में भी सपा को झटका लगने के प्रबल आसार हैं। उच्च सदन में बलिया से उसके सदस्य रविशंकर सिंह ‘पप्पू’ ने भाजपा में शामिल होने का ऐलान किया है।

पूर्व प्रधानमंत्री चंद्रशेखर के पौत्र और बलिया से विधान परिषद सदस्य पप्पू अपने रिश्ते के चाचा नीरज शेखर के राज्यसभा में नामांकन के दौरान मौजूद रहे। सिंह ने बताया कि वे भी भाजपा में शामिल होंगे।

मालूम हो कि पूर्व प्रधानमंत्री चंद्रशेखर के बेटे नीरज ने हाल में सपा की राज्यसभा सदस्यता से इस्तीफा दे दिया था। चंद दिनों बाद भाजपा ने उन्हें उत्तर प्रदेश से राज्यसभा का उम्मीदवार घोषित कर दिया। विधानसभा में भाजपा के विशाल संख्याबल के बूते उनका जीतना तय माना जा रहा है। नीरज के इस्तीफे के बाद सपा के दो और सदस्यों संजय सेठ तथा सुरेंद्र नागर ने भी राज्यसभा की सदस्यता से त्यागपत्र दे दिया था।

Facebook Comments