article 370
article 370

नई दिल्ली/दक्षिण भारत। पुलवामा हमले के बाद देश के कोने-कोने में आतंकवाद के खिलाफ विरोध प्रदर्शन हो रहे हैं। सोशल मीडिया में भी यह मुद्दा चर्चा में है। आम जनता से लेकर रक्षा विशेषज्ञों तक इस समस्या का अपने नजरिए से समाधान बता रहे हैं। पाकिस्तान पर कठोर कार्रवाई के अलावा धारा 370 का भी काफी जिक्र हो रहा है। सोमवार को सोशल मीडिया के विभिन्न मंचों पर इस मुद्दे को बड़ी तादाद में लोगों ने शेयर किया और धारा 370 हटाने की मांग की।

लोगों का कहना है कि जम्मू-कश्मीर के मौजूदा हालात को देखते हुए केंद्र सरकार को धारा 370 पर दोबारा विचार करना चाहिए। ट्विटर पर हैशटैग रिमूव आर्टिकल 370 के साथ लोगों ने अपने विचार व्यक्त करते हुए इस धारा के प्रभावों की चर्चा की। यूजर्स का कहना है कि यदि कश्मीर में अमन कायम करना है तो धारा 370 हटाकर सभी देशवासियों के लिए इस राज्य के दरवाजे खोल देने चाहिए।

इसके साथ ही यूजर्स ने कश्मीरी पंडितों का मुद्दा उठाया जिन्हें बेघर होकर अपने देश में ही भटकना पड़ा। एक यूजर ने लिखा है कि अब धारा 370 को लेकर गंभीरता से बहस होनी चाहिए। आज कश्मीर में जो हालात हैं, उनके मद्देनजर यह जरूरी है कि देश का हर नागरिक इस पर विचार करे। जब देश का नागरिक दूसरे राज्यों में जमीन खरीद सकता है और कानून में दिए तमाम अधिकारों का उपयोग कर सकता है, तो जम्मू—कश्मीर में उसे यह लाभ क्यों न मिले?

एक अन्य यूजर ने लिखा कि ​यदि हमारे घर की एक ईंट भी टूट जाती है तो भवन का अस्तित्व खतरे में पड़ जाता है। जम्मू-कश्मीर के बिना भारत अधूरा है। यदि इसे बरकरार रखना है तो धारा 370 हटानी होगी, कश्मीर हर भारतीय का है। जम्मू में रहने वाले एक शख्स ने प्रधानमंत्री मोदी को टैग करते हुए लिखा है कि मैं सबसे पहले भारतीय हूं। प्रधानमंत्रीजी, कृपया धारा 370 हटा दीजिए। कश्मीर की कई समस्याएं हल हो जाएंगी। अन्यथा जो अब तक चलता रहा है, वो आगे चलता रहेगा।

क्या है धारा 370
संविधान की धारा 370 जम्मू-कश्मीर को विशेष दर्जा देती है। इसके तहत यहां के निवासियों को ऐसे अधिकार प्राप्त हैं जो भारत के अन्य नागरिकों को नहीं मिलते। यही नहीं, कई कानून ऐसे भी हैं जो दूसरे राज्यों में समान रूप से लागू हैं, लेकिन वे जम्मू-कश्मीर में लागू नहीं होते, मिसाल के तौर पर सूचना का अधिकार। इसके अलावा दोहरी नागरिकता, अलग झंडा जैसी बातें भी जम्मू-कश्मीर को अलग बनाती हैं। विशेषज्ञों का मानना है कि इस धारा की वजह से कुछ लोगों में अलगाववाद की भावना पैदा हो रही है, जिसे अब हटा देना चाहिए।

2 COMMENTS

  1. 370 धारा को हटाओ जी हम लोग घर बार छोङ कर चले गये पर दुसरा राजय मे चले गये हे यहा केसे रेहये वेसे वह सब लोग रह सकते हे

  2. नमस्ते। कश्मीर में 370धारा जब तक रहेगा। आतंकवाद के खिलाफ कार्रवाई में समस्या रहेगी।

Leave a Reply to Man जी Cancel reply