नई दिल्ली। भारतीय कप्तान विराट कोहली ने दक्षिण अफ्रीका में पहली बार कोई सीरीज जीतने का इतिहास बनाने के साथ ही रिकार्डों का जबरदस्त विस्फोट भी कर डाला। विराट ने सेंचुरियन में शुक्रवार को आखिरी मैच में नाबाद १२९ रन की पारी खेलकर भारत को आठ विकेट से जीत दिलाई और इस प्रदर्शन के लिए मैन ऑफ द मैच बने। विराट का यह ३५ वां शतक था। विराट ने छह मैचों की सीरीज में तीन शतक, १८६.०० के औसत और ९९.४६ के स्ट्राइक रेट से ५५८ रन बनाए जो एक द्विपक्षीय सीरीज में किसी भी बल्लेबाज द्वारा बनाए सर्वाधिक रन है। विराट के असाधारण प्रदर्शन के लिए उन्हें मैन ऑफ द सीरीज का पुरस्कार भी मिला। विराट ने वनडे सीरीज में तीसरा शतक लगाया। इसके साथ दक्षिण अफ्रीका में उसी के घर में सबसे ज्यादा शतक लगाने वाले मामले में वह पूर्व कप्तान सौरभ गांगुली के साथ संयुक्त रूप से पहले नंबर पर जा पहुंचे हैं। दोनों के नाम तीन-तीन शतक हैं। गांगुली ने २००३ में दक्षिण अफ्रीका में हुए विश्व कप में तीन शतक बनाए थे। वीवीएस लक्ष्मण ने ऑस्ट्रेलिया में २००४ में वीबी सीरीज में तीन शतक बनाए थे। विराट द्विपक्षीय सीरीज में यह कारनामा करने वाले इकलौते बल्लेबाज बन गए हैं।भारतीय कप्तान विदेशी सरजमीं पर सबसे ज्यादा शतक बनाने वाले श्रीलंका के पूर्व कप्तानों सनत जयसूर्या और कुमार संगकारा के साथ संयुक्त रूप से दूसरे बल्लेबाज बन गए हैं। इन सभी के २१ शतक हैं। इस सूची में वनडे शतकों के विश्व रिकॉर्डधारी सचिन तेंदुलकर २९ शतकों के साथ पहले नंबर पर हैं। विराट विदेशी जमीन पर बतौर कप्तान किसी द्विपक्षीय सीरीज में सबसे ज्यादा शतक लगाने वालों की सूची में संयुक्त रूप से दक्षिण अफ्रीका के एबी डीविलियर्स के साथ पहले नंबर पर पहुंच गए हैं। इन दोनों के नाम तीन-तीन शतक हैं। दिलचस्प बात है कि डीविलियर्स ने भारत के खिलाफ और विराट ने दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ ये शतक बनाए हैं। विराट बतौर कप्तान सबसे ज्यादा शतक लगाने के मामले में संयुक्त रूप से डीविलियर्स के साथ दूसरे नंबर पर जा पहुंच गए हैं। उनके नाम अब तक १३ शतक हैं। विराट से अधिक बतौर कप्तान सबसे ज्यादा शतक लगाने का कीर्तिमान ऑस्ट्रेलिया के रिकी पोंटिंग के नाम हैं जिन्होंने २२ शतक बनाए हैं।भारतीय कप्तान की जैसी फॉर्म चल रही है उसे देखते हुए यह माना जा सकता है कि विराट बहुत जल्द ही पोंटिंग का रिकॉर्ड तो़ड देंगे। पोंटिंग ने कप्तान के तौर पर २२ शतकों के लिए जहां २२० परियां खेलीं वहीं डिविलियर्स ने १३ शतकों के लिए ९८ और विराट ने १३ शतकों के लिए अविश्वसनीय ४६ परियां खेलीं।मास्टर ब्लास्टर सचिन के बाद विराट दूसरे ऐसे भारतीय बल्लेबाज हैं, जिनके नाम एक द्विपक्षीय सीरीज में ५०० से अधिक रन हैं। विराट के नाम अब विदेशी सरजमीं पर खेली गई सीरीज में सबसे ज्यादा रन बनाने का रिकॉर्ड भी बन गया है। इससे पहले विदेश में खेली गई किसी भी द्विपक्षीय सीरीज में सबसे ज्यादा रन बनाने का रिकॉर्ड भारत के रोहित शर्मा के नाम था। उन्होंने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ २०१५-१६ में खेली गई सीरीज में ४९१ रन बनाए थे। विराट दुनिया के पहले ऐसे कप्तान बन गए हैं जिनके नाम द्विपक्षीय सीरीज में सबसे ज्यादा रन हैं। उन्होंने इस सीरीज में ५५८ रन बनाए। उनसे पहले यह रिकॉर्ड ऑस्ट्रेलिया के पूर्व कप्तान जॉर्ज बैली के नाम था जिन्होंने २०१३-१४ में भारत के खिलाफ छह परियों में ४९१ रन बनाए थे। दक्षिण अफ्रीका में द्विपक्षीय सीरीज में सबसे ज्यादा रन बनाने का रिकॉर्ड भी विराट के नाम आ गया है। इससे पहले यह रिकॉर्ड इंग्लैंड के केविन पीटरसन के नाम था जिन्होंने २००५ में दक्षिण अफ्रीका में छह परियों में ४५४ रन बनाए थे।विराट ने इसके अलावा सबसे कम दिनों में ५०० रन पूरे करने के मामले में सचिन को पीछे छो़ड दिया है। विराट ने ४७ दिनों में यह कारनामा किया जबकि सचिन ने इसके लिए २००३ में ६९ दिन लिए थे।अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में सबसे तेज १५,००० और १६,००० रन बनाने वाले विराट ने सबसे तेज १७,००० हजारी बनने के मामले में दक्षिण अफ्रीका के हाशिम अमला को पीछे छो़ड दिया है। विराट ने ३६१ पारियों में यह कारनामा किया जबकि हाशिम अमला ३८१ पारियों में इस मंजिल पर पहुंचे थे।

LEAVE A REPLY