मतदान प्रक्रिया के लिए जाते कर्मचारी
मतदान प्रक्रिया के लिए जाते कर्मचारी

नई दिल्ली/वार्ता। सत्रहवीं लोकसभा के लिए पहले चरण के चुनाव में गुरुवार को कड़ी सुरक्षा के बीच बीस राज्यों की 91 सीटों पर मतदान होगा, जिसमें कई केन्द्रीय मंत्रियों और दिग्गज नेताओं की चुनावी किस्मत ईवीएम में बंद हो जायेगी। पहले चरण में 14 करोड़ 20 लाख 54 हजार 978 मतदाता अपने मताधिकार का इस्तेमाल कर 1,279 उम्मीदवारों के भाग्य का फैसला करेंगे।

आंध्र प्रदेश विधानसभा की सभी 175, अरुणाचल प्रदेश की सभी 60, सिक्किम की सभी 32 और ओडिशा की 147 में से 28 विधानसभा सीटों के लिए भी गुरुवार को ही वोट डाले जाएंगे। मतदान सुबह सात बजे शुरु होगा और अधिकतर निर्वाचन क्षेत्रों में शाम पांच बजे तक चलेगा।

सभी राज्यों में सुरक्षा के कड़े इंतजाम किये गये है और मतदान के लिए पूरी तैयारियां कर ली गयी हैं। इसके लिए एक लाख 70 हजार मतदान केन्द्र बनाये गये है। इस चरण में केन्द्रीय मंत्रियों नितिन गडकरी, वीके सिंह, सत्यपाल सिंह, अजय टम्टा के अलावा कांग्रेस के हरीश रावत, प्रदीप टम्टा, लोक जनशक्ति पार्टी के चिराग पासवान, रालोद के अजित सिंह तथा जयंत चौधरी, एआईएमआईएम के असदुद्दीन ओवैसी, भाजपा के संजीव कुमार बालियान, रमेश पोखरियाल निशंक तथा हिन्दू-आवामी मोर्चा के जीतन राम मांझी की चुनावी किस्मत का फैसला होगा।

सपा की तबस्सुम बेगम, बसपा के हाजी मोहम्मद याकूब और नेशनल कांफ्रेस के मोहम्मद अकबर लोन जैसे नेताओं का चुनावी भविष्य भी ईवीएम में कैद हो जायेगा। पहले चरण मे आंध्र प्रदेश की सभी 25 तथा उत्तराखंड की सभी पांच, उत्तर प्रदेश की आठ, महाराष्ट्र की सात, असम की पांच, बिहार और ओडिशा की चार-चार, अरुणाचल प्रदेश, मेघालय, पश्चिम बंगाल और जम्मू-कश्मीर की दो-दो तथा छत्तीसगढ़, मिजोरम, सिक्किम, त्रिपुरा, मणिपुर, अंडमान-निकोबार द्वीप समूह और लद्दाख की एक-एक लोकसभा सीटों के लिए मत डाले जाएंगे।

LEAVE A REPLY