कर्नाटक के मुख्यमंत्री बी एस येड्डीयुरप्पा ने शक्ति परीक्षण पर उच्चतम न्यायालय के आदेश का स्वागत करते हुए कहा कि वह राज्य विधानसभा में बहुमत साबित करने को लेकर १०० प्रतिशत आश्वस्त हैं। शीर्ष अदालत के आदेश के तुरंत बाद येड्डीयुरप्पा ने पत्रकारों से कहा, हम उच्चतम न्यायालय के आदेश का पालन करेंगे, बहुमत साबित करने के लिए हमारे पास १०० प्रतिशत सहयोग एवं समर्थन है। येड्डीयुरप्पा ने कहा, इन सब राजनीतिक खेलों के बीच, हम बहुमत साबित करेंगे। हम उच्चतम न्यायालय के आदेश का पालन करेंगे। येड्डीयुरप्पा को बहुमत साबित करने के लिए १११ विधायकों का समर्थन चाहिए। राज्य की २२२ सीटों पर हुए चुनावों में भाजपा को १०४ सीटों में जीत मिली है और उसे उम्मीद है कि कांग्रेस तथा जद (एस) के नव निर्वाचित विधायक अपनी पार्टी छो़ड येड्डीयुरप्पा सरकार का समर्थन कर सकते हैं। येड्डीयुरप्पा ने कहा कि वह मुख्य सचिव से बातचीत करेंगे और विधानसभा सत्र बुलाएंगे।

कांग्रेस ने कर्नाटक में भाजपा के पास सरकार बनाने के लिए बहुमत का आंक़डा नहीं होने के बावजूद राज्यपाल वजुभाई वाला द्वारा भाजपा को आमंत्रित किये जाने के बारे में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को अवगत कराने के लिए समान विचार वाली पार्टियों की तरफ से उनसे मिलने का समय मांगा है। पार्टी के एक सूत्र ने बताया कि राष्ट्रपति से मिलने का समय मांगा गया है लेकिन कर्नाटक विधानसभा में शक्ति परीक्षण को देखते हुए उनसे अगले सप्ताह मुलाकात की संभावना है। सूत्रों का कहना है कि कांग्रेस और समान विचार वाली दूसरी पार्टियां राष्ट्रपति को इस बारे में अवगत कराना चाहती है कि कर्नाटक के राज्यपाल ने भाजपा के पास बहुमत का आंक़डा नहीं होने के बावजूद उसे सरकार गठन के लिए आमंत्रित किया।

LEAVE A REPLY