बीएस येड्डियुरप्पा
बीएस येड्डियुरप्पा

बेंगलूरु/दक्षिण भारत। कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री और भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष बीएस येड्डीयुरप्पा की कथित डायरी की एंट्रीज में भाजपा शीर्ष नेताओं को 1,800 करोड़ रुपए दिए जाने के खुलासे को एक नया मोड़ देते हुए आयकर महानिदेशक (कर्नाटक, गोवा और बेंगलूरु) बालाकृष्णन ने शनिवार को कहा कि डायरी के उक्त पृष्ठ आयकर अधिकारियों द्वारा जब्त किए गए दस्तावेजों का हिस्सा नहीं हैं।

शनिवार को यहां एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए उन्होंने जोरदार ढंग से कहा कि पत्रिका ने जिस डायरी की कहानी को आगे बढ़ाया है, वह आयकर अधिकारियों द्वारा जब्त की गई डायरी का हिस्सा नहीं है और निश्चित रूप से जाली है। उन्होंने कहा कि आईटी अधिकारियों ने डायरी के पन्नों की जांच के लिए उन्हें फॉरेंसिक प्रयोगशाला भेजा है ताकि उनका सत्यापन और प्रमाणीकरण हो सके।

आयकर महानिदेशक ने कहा कि लैब के अधिकारियों ने इसे यह कहते हुए वापस भेज दिया है कि मूल डायरी के बिना इसकी जांच नहीं की जा सकती। उन्होंने इसके साथ ही अपनी राय दी कि पत्रिका ने जिस कथित डायरी की प्रविष्टियों को उद्धृत किया था वह फर्जी और जाली पंक्तियां थीं। उन्होंने कहा, यह सब कुछ संबंधित अधिकारियों द्वारा की जा रही जांच को प्रभावित करने के लिए किया गया होगा, लेकिन हम इसके सामने नहीं झुकेंगे।

यह स्पष्ट करने के साथ ही कि उन पर यह स्पष्टीकरण देने के लिए किसी प्रकार का दबाव नहीं है, बालकृष्णन ने अपनी कहानी में आईटी विभाग को घसीटने के लिए मीडिया संगठन के खिलाफ कोई कानूनी कार्रवाई करने की संभावना से भी इनकार कर दिया। उन्होंने ऐसी डायरी प्रविष्टियों के साक्ष्य की स्वीकार्यता के सवाल पर हाल ही में सुप्रीम कोर्ट के फैसले को भी याद किया। एक सवाल का जवाब देते हुए उन्होंने कहा कि आईटी अधिकारियों ने कर्नाटक के एक कैबिनेट मंत्री की बेनामी संपत्ति जब्त की है।

इस मंत्री के खिलाफ अभियोजन प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। बहरहाल, उन्होंने मंत्री के नाम का खुलासा करने से इनकार कर दिया। कर्नाटक में कई फिल्मी हस्तियों के ठिकानों पर हालिया आईटी छापों का उल्लेख करते हुए उन्होंने कहा कि छापे के दौरान अधिकारियों ने सौ करो़ड से अधिक की अघोषित आय का पता लगाया है। इस संबंध में फिल्मी हस्तियों से स्पष्टीकरण मांगा गया है।

वह धन और दस्तावेजों से संबंधित जानकारी हासिल करने में आईटी अधिकारियों के साथ सहयोग कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि हाल ही में बेंगलूरु के एक कारोबारी को आयकर चुकाने में गफलत बरतने के बाद लगाए गए 11.94 करोड़ रुपए से अधिक के जुर्माने से बचने के लिए देश से भागने की कोशिश करते हुए मुंबई एयरपोर्ट पर गिरफ्तार किया गया है।

LEAVE A REPLY