दिनेश गुंडूराव एवं सिद्दरामैया
दिनेश गुंडूराव एवं सिद्दरामैया

बेंगलूरु/दक्षिण भारत। कर्नाटक के पूर्व मंत्री और वरिष्ठ कांग्रेस नेता रोशन बेग ने मंगलवार को पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस विधायक दल (सीएलपी) नेता सिद्दरामैया और कर्नाटक प्रदेश कांग्रेस समिति (केपीसीसी) के अध्यक्ष दिनेश गुंडूराव को 2018 के विधानसभा चुनाव और अब एग्जिट पोल के आकलनों के अनुसार लोकसभा चुनाव में पार्टी के खराब प्रदर्शन के लिए जिम्मेदार ठहराया।

उन्होंने कहा, सिद्दरामैया की हेकड़ी, एक धर्म विशेष को विभाजित करने की उनकी कोशिश रही। उनकी कार्यशैली एक राजनेता के अनुरूप नहीं थी। इन सभी ने वर्ष 2018 के विधानसभा चुनाव और अब एक्जिट पोल की भविष्यवाणी के अनुसार लोकसभा चुनाव में पार्टी की हार की नींव रखी।

बेग ने पार्टी के खराब चुनावी प्रदर्शन के लिए सिद्दरामैया और गुंडूराव को नैतिक जिम्मेदारी लेते हुए पद से इस्तीफा देने की मांग की। उन्होंने कहा, अगर दोनों में कोई नैतिकता है तो हमें इस्तीफा मांगने के लिए इंतजार करवाने के बजाय उन्हें तुरंत अपना पद छोड़ देना चाहिए।

मंगलवार को यहां एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए बेग ने कहा, एक्जिट पोल सर्वेक्षण रिपोर्ट पढ़ने के बाद मुझे दुख हो रहा है। एक कांग्रेस कार्यकर्ता के रूप में मैं सभी पार्टी कार्यकर्ताओं की ओर से अपनी राय व्यक्त कर रहा हूं, जो सिद्दरामैया और दिनेश गुंडूराव सहित कुछ नेताओं द्वारा अहंकारपूर्ण रवैये के कारण पार्टी के खराब प्रदर्शन से निराश हैं।

रोशन बेग पार्टी के इन दोनों शीर्ष नेताओं के खिलाफ आरोप लगाते हुए यहीं पर नहीं रुके। उन्होंने हाल ही में संपन्न लोकसभा चुनाव में अल्पसंख्यक नेताओं को नजरअंदाज करने पर भी तीव्र आपत्ति जताई। बेग ने कहा, मुस्लिम मतदाताओं को इस चुनाव में हल्के में लिया गया। उन्होंने सोचा था कि हम वोट बैंक हैं और पार्टी कभी नहीं छोड़ेंगे। हमेशा अपने हितों के बावजूद कांग्रेस के पक्ष में मतदान करेंगे। इस सोच के तहत मुस्लिम नेताओं की उपेक्षा की गई और उन्हें प्रतिनिधित्व देते समय नजरअंदाज कर दिया गया।

जब उनसे लोकसभा चुनाव के पूर्व कांग्रेस प्रत्याशियों के चयन के दौर में अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के महासचिव केसी वेणुगोपाल की भूमिका के बारे में पूछा गया, तो बेग ने वेणुगोपाल की तीखी आलोचना करते हुए उन्हें ‘विदूषक’ बता दिया। बेग का कहना था कि वेणुगोपाल को कर्नाटक की राजनीति के बारे में कोई जानकारी नहीं है और न ही उन्हें जमीनी वास्तविकता की समझ है।

वहीं, पत्रकारों के एक सवाल का जवाब देते हुए बेग ने कहा, मैंने कांग्रेस छोड़ने के बारे में अभी कोई फैसला नहीं किया है। एक अन्य सवाल पर बेग ने कहा, ऐसे समय में सिद्दरामैया कैसे मुख्यमंत्री बन सकते हैं, जबकि विधानसभा में बहुमत कांग्रेस के पक्ष में नहीं है? यह सिद्दरामैया ही थे जो राज्य में सरकार गठित करने के लिए जनता दल (एस) के दरवाजे गए थे और उनके साथ हाथ मिलाया था। अब वह मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी को अपना कार्य करने नहीं दे रहे हैं।

LEAVE A REPLY