pak army officer viral video
pak army officer viral video

वॉशिंगटन/दक्षिण भारत। भारतीय वायुसेना द्वारा बालाकोट में जैश-ए-मोहम्मद के प्रशिक्षण कैंप पर की गई कार्रवाई के बाद जहां पाकिस्तान में हड़कंप मच गया, वहीं भारत में कई राजनेताओं ने इस पर सवाल उठाए। अब पाक मूल के एक सामाजिक कार्यकर्ता ने अपने ट्विटर अकाउंट पर वीडियो पोस्ट कर दावा किया है कि उक्त कार्रवाई में करीब 200 आतंकी मारे गए थे।

गिलगित से ताल्लुक रखने वाले और अमेरिका निवासी सेंगे हसनान सेरिंग ने यह भी दावा किया है कि मारे गए इन आतंकियों के शवों को पाकिस्तानी फौज बालाकोट से निकालकर खैबर पख्तूनख्वा लेकर आई थी। सेरिंग द्वारा पोस्ट किए गए वीडियो की पुष्टि नहीं हो सकी है लेकिन उसमें साफ देखा जा सकता है कि पाकिस्तानी फौज का अधिकारी अपने जवानों के साथ स्थानीय लोगों को दिलासा दे रहा है। साथ ही उन्हें जिहाद के लिए भड़का रहा है। वह लोगों को कहता है कि 200 लोग मारे गए।

यह पाकिस्तानी अधिकारी लोगों के बीच बैठकर कहता है कि इसीलिए हम आए हैं। हम सबका ईमान है कि जो वर्तमान हुकूमत के साथ खड़ा होकर जिहाद करता है .. लड़ाई करता है वो जिहाद है। उसके बाद वह एक बच्चे को दिलासा देता है। फिर कहता है कि यह रुतबा खास बंदों को नसीब होता है। अफसर कहता है कि कल 200 बंदा ‘ऊपर’ गया था। इसका नसीब में लिखा हुआ था शहादत। फौजी अफसर कहता है कि तुम्हारा वालिद मरा नहीं, शहीद हुआ है। इसके बाद वह लोगों को हर किस्म की मदद के लिए साथ देने का वादा करता है।

यह वीडियो सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रहा है। हालांकि पाकिस्तान से कुछ यूजर्स इसे फर्जी करार दे रहे हैं, लेकिन फौजी अफसर द्वारा 200 लोगों के मारे जाने की बात स्वीकार करना और उन्हें शहीद का दर्जा देने जैसे बिंदु इस तथ्य को मजबूत करते हैं कि पाकिस्तान को कम से कम 200 लोगों का नुकसान जरूर हुआ है। फौजी अफसर मारे गए लोगों की रैंक और सैन्य पृष्ठभूमि का कहीं उल्लेख नहीं करता। वह जिहाद पर जोर देता है। अफसर का कथन इस बात की ओर संकेत करता है कि मारे गए लोग आतंकवादी थे।

LEAVE A REPLY