विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार
विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार

नई दिल्ली/दक्षिण भारत। भारतीय पायलट के पाकिस्तान की हिरासत में होने के दावे के बाद विदेश मंत्रालय ने पड़ोसी मुल्क से उसकी तुरंत और सुरक्षित रिहाई के लिए आवाज उठाई है। मंत्रालय की ओर से जारी एक बयान में इस बात पर आपत्ति भी जताई गई है कि पाक ने जख्मी पायलट की तस्वीरें और वीडियो सोशल मीडिया में प्रसारित कीं। मंत्रालय ने इसे अभद्रता कहा है। साथ ही वायुसेना के घायल पायलट से ऐसा व्यवहार समस्त अंतरराष्ट्रीय मानवाधिकार मानकों और जिनेवा कन्वेंशन का उल्लंघन बताया है।

गौरतलब है कि इससे पहले विदेश मंत्रालय पाकिस्तानी वायुसेना के विमानों द्वारा भारतीय हवाई सीमा के उल्लंघन और सैन्य ठिकानों पर हमले के बाद उसके उप-उच्चायुक्त सैयद हैदर शाह को तलब कर कड़ा विरोध जता चुका है। विदेश मंत्रालय के उक्त बयान में पाक से कहा गया है कि वह अपनी जमीन पर मौजूद आतंकी तत्वों के खिलाफ कार्रवाई करे।

भारत ने स्पष्ट कहा है कि पाकिस्तान इस बात को सुनिश्चित करे कि वायुसेना के पायलट को हिरासत में किसी तरह का नुकसान न पहुंचाया जाए। बता दें कि बुधवार को पाकिस्तान ने एक वीडियो जारी कर दावा किया था कि भारतीय वायुसेना के दो पायलट उसकी हिरासत में हैं। बाद में पाक ने बयान पलटा और सिर्फ एक पायलट हिरासत में होने की बात कही।

इस वीडियो में पायलट अपना नाम, सर्विस नंबर आदि बताता नजर आता है। इससे पहले विदेश मंत्रालय ने एक प्रेसवार्ता में स्पष्ट किया था कि पाकिस्तानी विमानों द्वारा भारतीय हवाई क्षेत्र के उल्लंघन के बाद हमारी वायुसेना ने उन्हें खदेड़ा। इस दौरान पाक का एक विमान मार गिराया। कार्रवाई में भारत ने एक विमान खोया और एक पायलट लापता है।

LEAVE A REPLY