एचडी कुमारस्वामी, येड्डीयुरप्पा एवं सिद्दरामैया
एचडी कुमारस्वामी, येड्डीयुरप्पा एवं सिद्दरामैया

बेंगलूरु/दक्षिण भारत। लोकसभा चुनाव 2019 के 23 मई को आनेवाले नतीजे कर्नाटक के लिए बेहद खास होंगे। ये नतीजे ही तय करेंगे कि एचडी कुमारस्वामी की सरकार बचेगी या नहीं। सत्तारूढ़ गठबंधन की भागीदार पार्टियां कांग्रेस और जनता दल (एस) कुल 28 सीटों में से 15 या उससे अधिक सीटें जीत लेती हैं तो कुमारस्वामी की चांदी है। लेकिन इससे कम सीटें आना खतरे की घंटी से कम नहीं होगा।

कुमारस्वामी के अलावा इस चुनाव के नतीजे ही भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष बीएस येड्डीयुरप्पा और कांग्रेस विधायक दल (सीएलपी) के नेता और पूर्व मुख्यमंत्री सिद्दरामैया का भविष्य भी तय करेंगे। गठबंधन सरकार में शामिल कांग्रेस के विधायक कुमारस्वामी को पहले से ही पसंद नहीं करते। पूर्व मुख्यमंत्री सिद्दरामैया के समर्थक विधायक तो खुले तौर पर अभी भी उनको ही अपना मुख्यमंत्री बताते हैं।

ऐसे में अगर जनता दल-एस और कांग्रेस संयुक्त रूप से १५ सीट नहीं ला पाए तो कुमारस्वामी के नेतृत्व पर सवाल खड़े होंगे। वहीं, अगर १५ या अधिक सीटें गठबंधन के कब्जे में आ जाती हैं तो कुमारस्वामी का कद बढ़ जाएगा। यह भी कांग्रेस नेताओं की एक दूसरी चिंता है। वे कहते हैं कि कुमारस्वामी को गठबंधन के प्रमुख चेहरे के तौर पर पेश किया गया है। लेकिन वह मंड्या में अपने बेटे निखिल के प्रचार में ज्यादा ध्यान देते हैं।

वहीं विपक्षी पार्टी लगातार उन पर ‘मजबूर सीएम’ कहकर तंज कसती है। वर्ष 2014 के लोकसभा चुनाव में भाजपा ने कर्नाटक में 17 सीटें जीती थीं। लेकिन अगर इस बार नतीजे अनूकूल नहीं आए तो सबसे पहले गाज सीनियर नेता बीएस येड्डीयुरप्पा पर गिरेगी। 76 साल के येड्डीयुरप्पा को ‘मार्ग दर्शक मंडल’ में शामिल किया जा सकता है, जिसमें लालकृष्ण आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी पहले से मौजूद हैं। वहीं अच्छा प्रदर्शन लिंगायत नेता का कद और बढ़ा सकता है। ऐसे में उन्हें तीसरी और आखिरी बार मुख्यमंत्री बनने का मौका भी मिल सकता है।

येड्डीयुरप्पा भले ही वर्ष 2023 तक सक्रिय राजनीति में रहने की बात कह चुके हों, लेकिन इसके लिए जरूरी होगा कि भाजपा को कर्नाटक में अधिक से अधिक सीटों पर जीत मिले। दूसरी ओर, अगर नतीजे गठबंधन के विपरीत आते हैं तो सिद्दरामैया फिर से अहम जिम्मेदारी संभाल सकते हैं। वह पहले ही साफ तौर पर कह चुके हैं कि वह फिर से मुख्यमंत्री की कुर्सी पर बैठना चाहते हैं।

देश-दुनिया की हर ख़बर से जुड़ी जानकारी पाएं FaceBook पर, अभी LIKE करें हमारा पेज.

LEAVE A REPLY