भारतीय वायुसेना. सांकेतिक चित्र.
भारतीय वायुसेना. सांकेतिक चित्र.

नई दिल्ली/दक्षिण भारत। पाकिस्तान का झूठ एक बार फिर बेनकाब हो गया। बुधवार सुबह उसके विमानों द्वारा भारतीय हवाई क्षेत्र का उल्लंघन और वायुसेना द्वारा उन्हें खदेड़े जाने से पैदा हुए घटनाक्रम के बाद पाकिस्तानी फौज ने दावा किया था कि भारत के दो पायलट उसकी हिरासत में हैं। हालांकि शाम होते-होते पाकिस्तान ने इस दावे से यूटर्न ले लिया।

पाकिस्तानी फौज के प्रवक्ता मेजर जनरल आसिफ गफूर ने बताया कि उनकी हिरासत में भारत का एक पायलट है। इससे पहले पाकिस्तानी मीडिया ने भी गफूर के झूठ को खूब हवा दी और यह दावा कर डाला कि भारत के दो पायलट हिरासत में हैं। कई जगह तो अस्पताल में एक जख्मी पायलट की तस्वीरें प्रकाशित कर दावा किया कि यह भारतीय पायलट है। बाद में स्पष्ट हुआ कि वह तो पाकिस्तानी वायुसेना का ही कोई पायलट था।

हालांकि तब तक पूरे पाकिस्तान में यह झूठ खूब शेयर किया जा चुका था। शाम को गफूर ने अपने पूर्व बयान से पलटते हुए ट्वीट किया कि फौज की हिरासत में एक पायलट है। सैन्य कानूनों के तहत उसके साथ व्यवहार किया जा रहा है। उल्लेखनीय है कि वायुसेना के पायलट से पाकिस्तान में हुए बर्ताव पर भारतीय विदेश मंत्रालय ने सख्त ऐतराज जताया है। साथ ही उसकी सुरक्षित और तुरंत रिहाई के लिए आवाज उठाई है।

भारत की ओर से पाकिस्तान के राजनयिक को तलब कर उसके मुल्क के रुख पर आपत्ति जताई गई है। मंत्रालय ने वायुसेना के घायल जवान के साथ हुए बर्ताव को अशिष्ट प्रदर्शन बताकर इसे अंतरराष्ट्रीय मानवाधिकार कानून और जिनेवा कन्वेंशन के नियमों का उल्लंघन बताया है।

LEAVE A REPLY