pakistan in icj
pakistan in icj

हेग/दक्षिण भारत। अंतरराष्ट्रीय न्यायालय में कुलभूषण जाधव मामले में पाकिस्तान को झटका लगा है। केस स्थगित करने की उसकी मांग खारिज कर दी गई है। अपना पक्ष रखते हुए पाकिस्तान ने भारत पर कई आरोप लगाए। पाकिस्तानी वकील ने झूठ की झड़ी लगाते हुए भारत पर आतंकवाद फैलाने के आरोप लगाए। अटॉर्नी जनरल अनवर मंसूर खान ने दलील दी कि युवावस्था में वे बतौर सैन्य अधिकारी भारत की जेल में बंद रहे। उन्होंने पाकिस्तान के आर्मी स्कूल पर हुए हमले में भारत और अफगानिस्तान पर दोष मढ़ा।

पाकिस्तानी पक्ष ने जाधव के बारे में दलील दी कि वे पाक विरोधी ताकतों को भड़का रहे थे और स्थानीय लोगों को आत्मघाती हमलावर बनने के लिए तैयार कर रहे थे। पाकिस्तान ने कहा कि सीपेक उसकी प्रगति का महत्वपूर्ण हिस्सा है, लेकिन इसे भी प्रभावित करने के प्रयास हुए। वकील ने कहा कि यह किसी एक व्यक्ति का काम नहीं, बल्कि राज्य प्रायोजित गतिविधि है।

पाकिस्तानी पक्ष ने आरोप लगाया कि भारत आजादी के साल से ही पाक में अशांति फैलाने की कोशिश कर रहा है। पाकिस्तान ने खुद को मानवता का पैरोकार बताया। उसकी ओर से दलील दी गई कि मानवता के आधार पर ही जाधव के परिवार को उनसे मिलने की इजाजत दी गई। वहीं यह आरोप लगाया कि भारत ऐसी मानवता कभी नहीं दिखाता। उसने भारतीय जेलों में बंद पाकिस्तानी नागरिकों का मुद्दा उठाया।

बता दें कि सोमवार को हुई मामले की सुनवाई के दौरान भारत की ओर से वरिष्ठ अधिवक्ता हरीश साल्वे ने पाक के झूठ का पर्दाफाश किया और विएना संधि का उल्लेख कर दलील दी कि पड़ोसी मुल्क इसका उल्लंघन कर रहा है। साल्वे ने कहा कि 13 बार गुजारिश के बाद भी जाधव को काउंसलर एक्सेस नहीं दिया गया। मंगलवार को सुनवाई की शुरुआत में जजों ने पाकिस्तानी पक्ष से सवाल किया कि क्या वे बहस के लिए तैयार हैं। इस पर पाकिस्तानी पक्ष ने हामी भरी और उसके बाद बहस शुरू हुई।

LEAVE A REPLY