हैदराबाद। केंद्रीय मंत्री रामदास अठावले ने गुरुवार को पत्रकार व कार्यकर्ता गौरी लंकेश के हत्यारों की तत्काल गिरफ्तारी और फांसी पर च़ढाने की मांग की है। ज्ञात हो कि मंगलवार रात को बाइक सवार हमलावरों ने ५५ वर्षीय लंकेश की बेंगलूरू में उनके घर में घुसकर गोली मारकर हत्या कर दी थी। लंकेश वामोन्मुखी नजरिया रखने और हिंदुत्व की राजनीति के खिलाफ बेबाक विचार रखने के लिए जानी जाती थीं।अठावले ने संवाददाताओं से यहां कहां, ‘पत्रकार गौरी लंकेश की हत्या बहुद दुखद है और हम इसकी क़डी निंदा करते हैं।’’ सामाजिक न्याय और अधिकारिता राज्य मंत्री ने कहा कि विचार की ल़डाई विचार से होनी चाहिए। किसी एक आदमी की हत्या करने से विचार खत्म नहीं किया जा सकता है। रिपब्लिकन पार्टी ऑफ इंडिया (ए) के अध्यक्ष अठावले ने कहा, ‘कर्नाटक सरकार को हत्या की गहराई से जांच करनी चाहिए और गुनहगारों की तत्काल गिरफ्तारी होनी चाहिए…चाहे वे कोई भी हों।’’ उन्होंने कहा कि इस मामले में राजनीतिक आरोप-प्रत्यारोप की कोई जरूरत नहीं है। उन्होंने कहा कि हत्यारों को गिरफ्तार करना चाहिए और उन्हें फांसी दे दी जानी चाहिए। हत्या की जांच के लिए कर्नाटक सरकार ने पुलिस महानिरीक्षक की अध्यक्षता में विशेष जांच दल (एसआईटी) का गठन किया है।केंद्रीय मंत्री रामदास अठावले ने गुरुवार को हैदराबाद में एक पत्रकारवार्ता में विदर्भ राज्य का गठन करने की हिमायत करते हुए कहा कि यह उचित समय है कि भाजपा इस मुद्दे पर कोई फैसला करे। क्योंकि यह महाराष्ट्र के साथ- साथ केंद्र में भी सत्ता में है। रिपब्लिकन पार्टी ऑफ इंडिया (ए) के प्रमुख अठावले ने कहा कि विदर्भ के लोग एक अलग राज्य चाहते हैं। उन्होंने संवाददाताओं से कहा, ‘भाजपा लंबे समय से एक अलग विदर्भ राज्य का समर्थन कर रही है। अब भाजपा महाराष्ट्र और केंद्र में भी सत्ता में है। आरपीआई (ए) की ओर से हम यह कहना चाहेंगे कि यह भाजपा है जिसने छोटे राज्यों का समर्थन किया है।’’उन्होंने कहा, ‘महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने इस पर (अलग राज्य के रूप में विदर्भ के गठन) न नहीं कहा है। सिर्फ शिवसेना ही इसके खिलाफ है।’’ सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्री ने कहा कि एक फैसला लेना होगा, जिस तरह से पिछली राजग सरकार के दौरान तीन राज्यों – छत्तीसग़ढ, झारखंड और उत्तराखंड के गठन का फैसला लिया गया था। उन्होंने कहा कि भाजपा लंबे समय से अलग विदर्भ राज्य की हिमायत कर रही है, यहां तक कि विपक्ष में रहने के दौरान भी उसने ऐसा किया है। उन्होंने कहा, ‘हम केंद्र सरकार से अलग विदर्भ राज्य का गठन करने की अपील करते हैं।’’

LEAVE A REPLY