moti lal with diamond
moti lal with diamond

पन्ना/वार्ता। मध्यप्रदेश की रत्नगर्भा वसुंधरा पन्ना में मंगलवार को एक मजदूर रंक से राजा बन गया। मजदूर को खदान से बेशकीमती हीरा मिला है। सूत्रों के अनुसार जिला मुख्यालय के समीप ग्राम कृष्णा कल्याणपुर में पट्टा लेकर हीरे की खदान खोद रहे पेशे से मजदूर मोतीलाल प्रजापति को 42 कैरेट 59 सेंट का बेशकीमती नायाब हीरा मिला है। उज्ज्वल किस्म के इस हीरे की कीमत करोड़ों रुपए बताई जा रही है।

मोतीलाल और उसके भाई रघुवीर प्रजापति ने जब उस पत्थर को हाथ में लेकर गौर से देखा तो उनकी आंखों से ख़ुशी के आंसू छलक उठे। वह कोई साधारण पत्थर नहीं बल्कि बेशकीमती नायाब हीरा था। बहुमूल्य हीरा लेकर दोनों भाई यहां स्थित हीरा कार्यालय पहुंचे तो पता चला कि 57 साल बाद दूसरा सबसे बड़ा जैम क्वॉलिटी का नायाब हीरा उन्हें मिला है।

हीरा कार्यालय के आधिकारिक रिकॉर्ड के अनुसार, इसके पूर्व 15 अक्टूबर, 1961 में यहां के ही निवासी रसूल मोहम्मद को महुआटोला की उथली खदान में 44 कैरेट 55 सेंट का सबसे बड़ा हीरा मिला था। हीरा पारखी अनुपम सिंह के अनुसार, मोतीलाल को मिला हीरा वजन और क्वालिटी के लिहाज से दूसरा बहुमूल्य हीरा है। उन्होंने मोतीलाल से हीरा प्राप्त कर उसे सरकारी खजाने में जमा कर लिया है।

उन्होंने बताया कि प्रक्रिया पूर्ण होने के पश्चात आगामी माह में आयोजित होने वाली हीरों की शासकीय नीलामी में इस हीरे को भी बिक्री के लिए रखा जाएगा। उन्होंने हीरे की अनुमानित कीमत नहीं बताई सिर्फ इतना ही कहा कि इसकी नीलामी का रिकॉर्ड बनेगा।

उन्होंने बताया नीलामी से मिलने वाली राशि में से 20 फीसदी काटकर शेष राशि मोतीलाल को प्रदान कर दी जाएगी। उधर श्रमिक मोतीलाल ने बताया कि उसे महज डेढ़ माह की मेहनत में ही हीरा मिल गया। इस हीरे की बिक्री से जो राशि मिलेगी उसे वह और उसके चारों भाई आपस में बांट लेंगे। बच्चों का विवाह करने के बाद शेष राशि से कोई व्यवसाय करेंगे।

ये भी पढ़िए:
– कांग्रेस को मायावती की खरी-खरी: सीटों की भीख नहीं मांगेंगे, अपने दम पर लड़ सकते हैं चुनाव
– कौन थे सर छोटूराम जिनकी प्रतिमा का प्रधानमंत्री मोदी ने किया अनावरण?
– रिपोर्ट: आतंकी मसूद अजहर को हो गई जानलेवा बीमारी, डेढ़ साल से है बिस्तर पर
– ब्रह्मोस मिसाइल की इन खूबियों से खौफ में है पाकिस्तान, इसलिए करवाता है जासूसी

LEAVE A REPLY