nirmala sitharaman
nirmala sitharaman

नई दिल्ली/भाषा। राष्ट्रीय सुरक्षा के मुद्दे पर कांग्रेस को कटघरे में खड़ा करने का प्रयास करते हुए भाजपा ने बुधवार को आरोप लगाया कि विपक्षी पार्टी के घोषणापत्र के विभिन्न प्रावधान अलगाववादियों, आतंकवादियों के पक्ष में हैं और ये सशस्त्र बलों का मनोबल गिराने वाले हैं।

भाजपा नेता और रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने संवाददाताओं से कहा कि मंगलवार को जारी कांग्रेस का घोषणापत्र देशहित में नहीं है और यह सीधे आतंकवादियों और देश के खिलाफ काम करने वाले अन्य लोगों की मदद करने वाला है।

सीतारमण ने सशस्त्रबल विशेष अधिकार अधिनियमन (आफस्पा) की समीक्षा करने और भारतीय दंड संहिता की धारा 124ए को समाप्त करने के कांग्रेस के वादे का हवाला देते हुए विपक्षी पार्टी पर निशाना साधा। उन्होंने जोर दिया कि उनकी पार्टी आफस्पा को वापस लेने के खिलाफ नहीं है लेकिन ऐसा तभी हो जब स्थिति इसकी इजाजत देती हो।

उन्होंने आरोप लगाया कि लेकिन घोषणापत्र में कांग्रेस ने वादा किया है कि वह सत्ता में आई तो इसके प्रावधानों की समीक्षा करेगी जिससे आतंकवादियों और उसके हिमायतियों को मतगढंत आरोप लगाने और सुरक्षा बलों पर निशाना साधने की अनुमति मिल सके।

भाजपा नेता ने कहा कि मोदी सरकार ने मेघालय और त्रिपुरा तथा असम के हिस्सों से राज्य सरकारों से समन्वय बनाकर आफस्पा को वापस लिया है। उन्होंने सवाल किया कि 2004 से 2014 तक जब कांग्रेस सत्ता में थी तब उसने कितने क्षेत्रों से आफस्पा को हटाया था। कांग्रेस के सशस्त्र बलों के अधिकार और मानवाधिकारों के बीच संतुलन के रुख के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि यह नहीं मानना चाहिए कि ये एक दूसरे के खिलाफ हैं।

कांग्रेस पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा कि यह देश की एकता और सशस्त्र बलों के मनोबल के लिए ठीक नहीं है। कांग्रेस घोषणापत्र में कल्याण कार्यक्रमों के संबंध में एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि विपक्षी पार्टी का चरित्र वादों को पूरा करने का नहीं रहा है।

LEAVE A REPLY