Category archives for: सामायिक अग्रलेख

प्रतिस्पर्धी कथानकों की कथा

modi1

कांग्रेस का वह कथानक अब सामने है, जिसे लेकर वह इस वर्ष के आम चुनाव में जनादेश मांगने जाएगी। पार्टी ने अपनी शक्ति को आधार बनाया है। जिस वक्त वर्तमान संकट से भरा और संभावनाएं धूमिल हों, अपने इतिहास की तरफ मुड़ना अस्वाभाविक नहीं है। तो कांग्रेस मतदाताओं को बताएगी कि वह उस भारत के […]

असम में फिर बहा हिन्दीभाषियों का खून

terrorist

पिछले कई दिनों से असम में अलग-अलग स्थानों पर हिन्दी भाषियों की हत्याएं हो रही हैं। एक दर्जन से ज्यादा लोग मारे गए हैं। स्थिति को समझने के लिए पहले कुछ घटनाआेंं पर नजर डालें। इस वर्ष 18 जनवरी को कोकराझाड़ के समीप राष्ट्रीय राजमार्ग पर पांच हिन्दी भाषियों की गोली मार कर हत्या कर […]

प्रेम त्रिकोण में पाकिस्तान

shashi tharur sunanda meher

मृतक एक मंत्री की पत्नी हो, जानी मानी सोशलाइट हो तो हंगामा मचेगा ही, लेकिन जब मौत में पाकिस्तान, आईएसआई, प्रेम त्रिकोण का मामला आ जाए तो मामला गंभीर हो जाता है। केंद्रीय मंत्री शशि थरूर की तीसरी पत्नी सुनंदा पुष्कर की मौत दिल्ली के एक पांच सितारा होटल में हो गई। मौत के कारणों […]

ध्वनि प्रदूषण और प्रकृति

ear piercing

आदमी समझता है कि ईश्वर को कम सुनाई देता है, वह करीब-करीब बहरा है। जब से मानव अपनी बेबसी का समाधान काल्पनिक कलाकृतियों में ढ़ंढ़ता आ रहा है, वह छद्म उपायों के पीछे भटक रहा है। यूनान के दार्शनिक जेनोफेन ने ठीक ही कहा था कि अगर बैलों के हाथ होते और वे ईश्वर की […]

दिल्ली के बाद अब देश पर नजर

arvind-kejriwal sketch

आम आदमी पार्टी (आप) ने दिल्ली मेंं अपनी पार्टी कार्यकारिणी की दो दिवसीय बैठक तब की जब सरकार गठन और मंत्रियों की कार्यशैली के कारण वह लगातार सुर्खियों में है। ऐसे समय उसको सुर्ख्रियां प्राप्त होना ही था। आप के नेता वैसे भी प्रचार पाने और उससे जन मानस पर असर डालने की कला में […]

टीम केजरीवाल की सफलता का रहस्य

team kejriwal

दिल्ली फतह के बाद अब आम आदमी पार्टी (आप) ने हरियाणा की राजनीति में दस्तक दी है। इससे तमाम राजनीतिक दलों में बैचेनी बढ़ी है। योगेंद्र यादव हरियाणा के प्रस्तावित मुख्यमंत्री हैं। उनके दौरे भी शुरू हो गए हैं। दिल्ली में आप पार्टी की जीत के लिए जिम्मेवार तमाम कारणों के साथ-साथ देश के परंपरागत […]

कौन हैं ये वीआईपी वोटर ?

Elections 2009, Young and first time voters

हलांकि लोकसभा चुनाव मई, 2014 में प्रस्तावित हैं, लेकिन चर्चा पिछले साल से ही चल रही है। चुनाव के मद्देनजर जोड़-तोड़ की राजनीति भी जोरों पर है। नए-नए मोर्चे गठित करने की बात होती रहती है। समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष मुलायम सिंह यादव तीसरे मोर्चे की बात कहते रहते हैं। चुनाव पूर्व यह मोर्चा […]

कैमरा और छवि

Siddaramaiah and yeddyurappa

जब समाज में कोई अच्छा या बुरा बदलाव होता है तो साहित्य उसे प्रतिबिंबित करता ही है। जब ‘नवाबों का शहर’ के नाम से मशहूर लखनऊ का चेहरा आधुनिक रंग ले रहा था तो उसे साहित्य के आईने में उतारा मशहूर हास्य कवि-लेखक व नाटककार केपी सक्सेना ने। शहरी लोगों में पान खाने की आदत […]

‘आप’ से सीखें राजनीतिक दल

arvind 12

दिल्ली विधानसभा में बहुमत सिद्ध करने से पहले अपने कम से कम दो महत्वपूर्ण वादे मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने पूरे किए हैं। दिल्ली की जनता को प्रतिदिन 666 लीटर मुफ्त पानी की सुविधा मिल गई। बिजली बिल के दो स्लैब में 50 प्रतिशत तक की कटौती का  आदेश भी जारी कर दिया गया है। इनसे […]

क्या सचमुच बदलेगी राजनीति ?

arvind_kejriwal

अरविंद केजरीवाल ने टीम अन्ना से अलग होकर आम आदमी पार्टी (आप) बनाई। वर्ष 2012 में स्वराज का उनका सपना एक पुस्तक के रूप में नजर आया और फिर वर्ष 2013 में ‘आप’ के घोषणापत्र में। स्वराज का सपना दिखाते इसी घोषणापत्र को आगे रखकर आम आदमी पार्टी देश की राजधानी के चुनावी मैदान में […]

Powered by Givontech