राज्य के विकास को समर्पित रहूंगी : जयललिता


चेन्नई। तमिलनाडु की मुख्यमंत्री जे जयललिता ने गुरुवार को कहा कि विपक्षी पार्टियों द्वारा उनकी सरकार पर की गई नकारात्मक टिप्पणियों पर बिना कोई ध्यान दिए वह तमिलनाडु के विकास के लिए किए जाने वाले कार्यों के प्रति पूरी तरह समर्पित रहेंगी। श्रीरंगनाथ स्वामी मंदिर में एक दिवसीय अन्नदान कार्यक्रम सहित विभिन्न कल्याणकारी परियोजनाओं का शुभारंभ करने के बाद उपस्थित जनसमूह को संबोधित करते हुए जयललिता ने कहा कि मलैकोट्टाई (तिरुची और इसके आसपास के क्षेत्र) वह स्थान है जहां मेरा हृदय बसता है। मुख्यमंत्री ने बिना किसी का नाम लिए कहा कि कुछ लोग श्रीलंकाई तमिल एवं अन्य मुद्दों पर सरकार की गतिविधियों की आलोचना कर रहे हैं। तमिलनाडु विधानसभा में एक प्रस्ताव लाने सहित श्रीलंकाई तमिलों के हितों की रक्षा के लिए उठाए गए कई कदमों को गिनाते हुए जयललिता ने कहा कि जिन लोगों को सत्ता में बने रहने के लिए अपने आत्मसम्मान की फिक्र तक नहीं है उन्हें मेरी सरकार पर लांछन लगाने का कोई अधिकार नहीं है। एक छोटी सी कहानी के माध्यम से खुद पर निशाना साधने वाले लोगों पर चुटकी लेते हुए जयललिता ने कहा कि व्यक्ति अच्छे लोगों से लाभ लेने के बाद उन्हीं अच्छे लोगों को अपशब्द कहा करते हैं। पिछले वर्ष मुख्यमंत्री बनने के बाद से अपनी सरकार द्वारा राज्य के लोगों की भलाई के लिए शुरू किए गए कार्यों की याद दिलाते हुए जयललिता ने कहा कि उनका लक्ष्य तमिलनाडु को देश का नंबर एक राज्य बनाना है। उन्होंने कहा कि मेरा लक्ष्य तमिलनाडु को सभी क्षेत्रों में सक्षम और समृद्ध बनाना और राज्य में मानव संसाधन विकास को सतत ध्यान में रखना है। उन्होंने कहा कि राज्य में निवेशकों आकर्षित करने के लिए यह सबसे पहली जरूरत है। सरकार द्वारा तैयार किया गया ‘विजन-2023′ में तमिलनाडु के सर्वांगीण विकास को ध्यान में रखा गया है। सरकारी मशीनरी इस लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए कठिन परिश्रम कर रही है। अपने पूर्व के कार्यकाल (वर्ष 2001-06) का जिक्र करते हुए जयललिता ने दावा किया कि उस दौरान उन्होंने राज्य के सभी मंदिरों के लिए ‘अन्नदानम’ योजना की शुरुआत की थी और आज यह योजना राज्य के 438 मंदिरों में चल रही है। मुख्यमंत्री ने कहा, ‘अब हम इस योजना का तुरुमलै तिरुपति देवस्थानम की तर्ज पर विस्तार करने जा रहे हैं। इससे सुबह 8 बजे से रात 10 बजे तक अन्न उपलब्ध करवाना सुनिश्चित किया जा सकेगा।’ उन्होंने बताया कि फिलहाल यह योजना श्री रंगनाथस्वामी मंदिर में शुरू की जा रही है। इस अवसर पर जयललिता ने 82.63 करोड़ रुपए की परियोजनाओं का शुभारंभ किया और 50.62 करोड़ रुपए नकद वितरण भी किए। मुख्यमंत्री ने नि:शुल्क ग्रीन हाउस, लैपटॉप, साइकिल, विवाह एवं मातृत्व सहायता योजना के तहत यह राशि बांटी। इन कार्यक्रमों के कुल 34 हजार लाभार्थी हैं और 34 हजार लोगों को आज इनका लाभ पहुंचाया गया। मुख्यमंत्री ने शेष लाभार्थियों को कार्यक्रमों का लाभ पहुंचाने के लिए मंत्रियों और प्रशासनिक अधिकारियों को घर-घर जाने की अपील की। मुख्यमंत्री ने कहा कि श्रीरंगपट्टम के विधायक कार्यालय पर 37 महिलाओं को कंप्यूटर का प्रशिक्षण तथा 66 महिलाओं को सिलाई का प्रशिक्षण दिया जा रहा है। बेरोजगारों को नौकरी दिलवाने की कोशिश के परिणामस्वरूप टीवीएस समूह श्रीरंगम विधानसभा क्षेत्र के 168 युवाओं को नौकरी दे रहा है और जल्द ही इन युवाओं को नियुक्ति पत्र मिल जाएंगे।

Be Sociable, Share!

Short URL: http://www.dakshinbharat.com/?p=8953

Posted by on Sep 14 2012. Filed under मुख्य सुर्खियाँ. You can follow any responses to this entry through the RSS 2.0. You can leave a response or trackback to this entry

You must be logged in to post a comment Login

Powered by Givontech