निवेशकों का पैसा सुरक्षित, घबराने की जरुरत नहीं : सहारा


नई दिल्ली। सहारा समूह ने अपने जमाकर्ताओं और निवेशकों को आश्वस्त करते हुए कहा है कि उनका पैसा पूरी तरह सुरक्षित है और घबराने की कोई जरुरत नहीं है। पैसा लौटाने में किसी प्रकार की देरी नहीं की जाएगी। उच्चतम न्यायालय के सहारा समूह को दो असूचीबध्द कंपनियों द्वारा जुटाए गए 24 हजार करोड़ रुपए तीन माह के भीतर ब्याज समेत लौटाने के आदेश के बाद देर रात जारी बयान और समूह के समाचार पत्र में शनिवार को दिए गए बयान में निवेशकों को पूरी तसल्ली दी गई है। समूह ने बयान में कहा है कि जमाकर्ताओं को अपने पैसे को लेकर किसी प्रकार की चिंता नहीं करनी चाहिए। समूह उनके धन का पूरी तरह से ईमानदार संरक्षक है। बयान में कहा गया है। तथ्य यह है कि समूह के पास कोई बेनामी धन नहीं है और यह वक्तव्य अपने देश के सभी प्राधिकारियों को सहारा की चुनौती है। सहारा में आए एक-एक रुपए को जमाकर्ताओं और निवेशकर्ताओं की प्रामाणिकता के साथ सत्यापित किया जा सकता है। बयान में कहा गया है हम इस देश के समस्त प्राधिकारियों को आमंत्रित करते हैं कि वे आएं और सत्यापन करें। बयान में दावा किया गया है कि समूह पिछले 33 वर्ष से देश में कार्यरत है और इस दौरान उसके खिलाफ भुगतान न करने की एक भी शिकायत नहीं हुई है जबकि हमारे साथ 12 करोड़ निवेशक जुड़े हैं। परिपवक्ता अवधि पर भुगतान के रुप में समूह ने एक लाख 40 हजार करोड़ रुपए का भुगतान बिना किसी दिक्कत के किया है। समूह ने आरोप लगाया है कि पिछले सात-आठ वर्षों के दौरान विभिन्न प्राधिकारियों ने बिना किसी ठोस सबूत और प्रामाणिकता के समूह पर अर्नगल आरोप लगाए हैं ताकि कंपनी के बारे में गलत और नकारात्मक धारणा बने। प्राधिकारियों को यह लगता है कि समूह के पास पैसा राजनेताओं आदि से गलत ढंग से आया है। दैनिक राष्ट्रीय सहारा समाचारपत्र में समूह ने आश्वासन देते हुए कहा है कि अगले दो से तीन वर्षों में विस्तार कार्यक्रमों के माध्यम से करीब तीन लाख लोगों को वेतनयुक्त स्थायी रोजगार उपलब्ध कराया जाएगा और पांच लाख नए फील्ड कार्यकर्ताओं को शामिल करेंगे जिससे 18 लाख परिवारों को आजीविका मिलेगी।

Be Sociable, Share!

Short URL: http://www.dakshinbharat.com/?p=8595

Posted by on Sep 2 2012. Filed under व्यवसाय. You can follow any responses to this entry through the RSS 2.0. You can leave a response or trackback to this entry

You must be logged in to post a comment Login

Powered by Givontech