संप्रग से क्रुध जनता भाजपा से भी निराश है : आडवाणी


नई दिल्ली। भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी ने पार्टी अध्यक्ष नितिन गडकरी के कुछ फैसलों पर खुली नाराजगी जताते हुए गुरुवार को कहा कि उनकी पार्टी को अंतरावलोकन करने की जरूरत है, क्योंकि जनता अगर संप्रग से क्रुध है तो वह भाजपा से भी निराश है। आडवाणी ने उत्तर प्रदेश चुनाव के दौरान भ्रष्टाचार के आरोपों का सामना कर रहे बसपा के कुछ नेताओं को पार्टी में शामिल करने के गडकरी के फैसले की आलोचना करते हुए अपने ब्लाग में लिखा है कि इन दिनों पार्टी के भीतर मूड उत्साहवर्धक नहीं है। उत्तर प्रदेश विधानसभा के परिणाम, भ्रष्टाचार के आरोप में मायावतीजी द्वारा निकाले गए मंत्रियों का भाजपा में स्वागत किया जाना, झारखंड और कर्नाटक के मामलों से निपटने के तरीके, इन सब घटनाओं ने भ्रष्टाचार के विरूध्द पार्टी के अभियान को कुंद किया है। गौरतलब है कि एनआरएचएम घोटाले के आरोप में मायावती द्वारा मंत्री पद से हटाए गए बाबू सिंह कुशवाहा को भाजपा में शामिल किए जाने का फैसला गडकरी ने किया था। कहा जाता है उस समय भी आडवाणी सहित कई वरिष्ठ नेताओं ने इसका विरोध किया था। पार्टी के हालात से काफी आहत नजर आ रहे आडवाणी ने लिखा है, अगर आज जनता संप्रग सरकार से क्रुध है तो वह हमसे भी निराश है। यह स्थिति अंतरावलोकन की मांग करती है। उन्होंने कहा कि मीडिया ने एक के बाद एक घोटाले के लिए संप्रग सरकार को कटघरे में खड़ा किया, लेकिन उसके साथ ही उसने इस बात पर भी उसने खेद जताया कि भाजपा के नेतृत्व वाला राजग उभरती परिस्थिति में खरा नहीं उतरा। आडवाणी ने कहा, स्वयं पूर्व पत्रकार होने के नाते मैं मानता हूं कि वह (मीडिया) जनता की भावना को सही तरह से पेश कर रहा है। भाजपा संसदीय दल के अध्यक्ष ने अपने ब्लाग में हाल में संपन्न संसद के बजट सत्र के दौरान लोकसभा और राज्यसभा में क्रमश: सुषमा स्वराज और अरूण जेटली के नेतृत्व में भाजपा के प्रदर्शन की सरहाना करते हुए उसे शानदार बताया।

Be Sociable, Share!

Short URL: http://www.dakshinbharat.com/?p=5203

Posted by on Jun 1 2012. Filed under दक्षिणांचल. You can follow any responses to this entry through the RSS 2.0. You can leave a response or trackback to this entry

You must be logged in to post a comment Login

Powered by Givontech